सत्संग भजन लिरिक्स इन हिंदी | Satsang Bhajan Lyrics in Hindi | सत्संग भजन लिरिक्स Satsang Bhajan Lyrics

सत्संग वह गंगा है जिसमे जो नहाते है भजन लिरिक्स

राजस्थानी भजन सत्संग वह गंगा है जिसमे जो नहाते है भजन लिरिक्सगायक – परमानंद सरस्वती जी। सत्संग वह गंगा है,जिसमे जो नहाते है,सत्संग वो गंगा है,जिसमे जो नहाते है,पापी से…

Continue Readingसत्संग वह गंगा है जिसमे जो नहाते है भजन लिरिक्स

सैया आज पूनम की है रात गई रे सतसंगत में लिरिक्स

प्रकाश माली भजन सैया आज पूनम की है रात गई रे सतसंगत में लिरिक्सगायक – प्रकाश माली जी। सैया आज पूनम की है रात,गई रे सतसंगत में,सईयाँ आज पूनम की…

Continue Readingसैया आज पूनम की है रात गई रे सतसंगत में लिरिक्स

गुरूजी बंद पड़ी दिवला वाली रे ज्योत भजन लिरिक्स

राजस्थानी भजन गुरूजी बंद पड़ी दिवला वाली रे ज्योत भजन लिरिक्सSinger : Kishore Paliwal गुरूजी बंद पड़ी,दिवला वाली रे ज्योत, दोहा – संत बुलाया आंगने,और गुरु उगमजी महाराज,बाई रूपादे वायक…

Continue Readingगुरूजी बंद पड़ी दिवला वाली रे ज्योत भजन लिरिक्स

हिन्दो घलई दूँ सत्संग बाग में ओ गुरूजी भजन लिरिक्स

राजस्थानी भजन हिन्दो घलई दूँ सत्संग बाग में ओ गुरूजी भजन लिरिक्सगायक – अनिल नागौरी। हिन्दो घलई दूँ सत्संग बाग में,ओ गुरूजी। दोहा – गुरु बीणजारा ग्यान रा,ने लाया वस्तु…

Continue Readingहिन्दो घलई दूँ सत्संग बाग में ओ गुरूजी भजन लिरिक्स