Skip to content

Top 10 Krishan Ji bhajan lyrics

  • by
0 688

Top 10 Krishan Ji bhajan lyrics Top 10 Krishan Ji bhajan lyrics

बता मेरे यार सुदामा रे, भाई घने दिनों में आया

बता मेरे यार सुदामा रे, भाई घने दिनों में आया

बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

बालक था रे जब आया करता
रोज़ खेल के जाया करता
रे बालक था रे जब आया करता
रोज़ खेल के जाया करता
हुए के तकरार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

मानने सुना दे कुटुम्ब कहानी
क्यूँ कर पद गी ठोकर खानी
रे मानने सुना दे कुटुम्ब कहानी
क्यूँ कर पद गी ठोकर खानी
तोते की मार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

सब बच्चों का हाल सुना दे
मिस्रणी की बात बता दे
हो सब बच्चों का हाल सुना दे
मिस्रणी की बात बता दे
रे क्यूँ गया हार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

चाहिए तारे तनने पहलाम आना
इतना दुख नही पड़ता थाना रे
चाहिए तारे तनने पहलाम आना
इतना दुख नही पड़ता थाना
क्यूँ भुल्लय प्यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

आइब भी आ गया ठीक बख़त पे
आजा बैठ जा मेरे तखत पे
रे आइब भी आ गया ठीक बख़त पे
आजा बैठ जा मेरे तखत पे
हो जिगरी यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया

आजा भगत छ्चाटी पे ला लून
आइब बता तनने कड़े बिता लून
हो आजा भगत छ्चाटी पे ला लून
आइब बता तनने कड़े बिता लून
करूँ साहूकार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
बता मेरे यार सुदामा रे
भाई घने दिनों में आया
घने दिनों में आया
घने दिनों में आया
भाई घने दिनों में आया

पत्थर की राधा प्यारी पत्थर के कृष्ण मुरारी

पत्थर की राधा प्यारी, पत्थर के कृष्ण मुरारी
पत्थर से पत्थर घिस के पैदा होती चिंगारी
पत्थर की नार अहिल्या, पग से श्री राम ने तारी
पत्थर के मठ में बैठी, मैया हमारी

चौदह बरस वनवास में भेजा, राम लखन सीता को,
पत्थर रख सीने दशरथ ने
पुत्र जुदाई का भी पत्थर सहा देवकी माँ ने,
कैसी लीला रची कुदरत ने
पत्थर धन्ने को मिला, जिसमे ठाकुर बसा
पत्थर के जगह जगह पर भोले भंडारी

नल और नील जो लाए पत्थर, राम लिखा पत्थर पे,
पत्थर पानी बीच बहाए
तैर गए पत्थर पानी में राम सेतु के आए
मेरे राम बहुत हर्षाये
पत्थर जग में महान, इसको पूजे जहान
इसकी तो पूजा करती यह दुनिया सारी

ले हनुमान उड़े जब पत्थर संजीवनी ले आये
सारे वीर पुरुष हर्षाये
वो ही पत्तर बृज भूमि में गोवर्धन कहलाये
जो है ऊँगली बीच उठाये
मंदिरों में भी तो, यही पत्थर जुड़े
पत्थर की नाव में देखो पत्तर पतवारी

मेरे सांवरे सलोने कन्हैया तेरा जलवा कहाँ पर नही है,

मेरे सांवरे सलोने कन्हैया तेरा जलवा कहाँ पर नही है,
तेरा जलवा कहाँ पर नही है, तेरा जलवा कहाँ पर नही है,

कान वालो ने जाकर सुना है, आँख वालो ने जाकर के देखा।
उनकी आँखो मे परदा पड़ा है जिस ने जलवा ये देखा नही है॥

लोग पीते है पी पी के गिरते, हम पीते है गिरते नही है।
हम तो पीते है सत्संग का प्याला ये अँगुरो की मदिरा नही है॥

मन्दिर जाऊँ मैं सांझ सवेरे, अलख जगाऊ मैं नाम की तेरे।
दुनिया वालो से अब क्या डरना, हम को दुनिया की परवाह नही है॥

सुबह शाम है जिस ने पुकारा, तेरे नाम का लेकर सहारा।
सच्चे भाव से जिसने पुकारा, तेरे आने मे देर नही है॥

आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में

आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में ||2||
आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में ||2||
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में………

आप भी आना संग राधा जी को लाना ||2||
आके दरश दिखाना हमारे हरी कीर्तन
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में
आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में………

आना प्रभु आना आके दरस दिखाना ||2||
आप भी आना संग गोपियों को लाना ||2||
आकर रास रचना हमारे हरी कीर्तन में
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में
आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में………

आप भी आना संग ग्वालो को भी लाना ||2||
आकर माखन खाना हमारे हरी कीर्तन में
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में
आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में
आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में………
आना प्रभु आना
आके दरस दिखाना ||2||

श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम

श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम
लोग करे मीरा को यूँ ही बदनाम

साँवरे की बन्सी को बजने से काम
राधा का भी श्याम वो तो मीरा का भी श्याम

जमना की लहरें बन्सीबट की छैया
किसका नहीं है कहो कृष्ण कन्हैया

श्याम का दीवाना तो सारा ब्रिजधाम
लोग करे मीरा को यूँ ही बदनाम

कोन जाने बाँसुरिया किसको बुलाए
जिसके मन भाए वो उसीके गुन गाए

कोन नहीं बन्सी की धुन का गुलाम
राधा का भी श्याम वो तो मीरा का भी श्याम

तू कितनी अच्छी है तू कितनी भोली है प्यारी प्यारी है

तू कितनी अच्छी है, तू कितनी भोली है, प्यारी प्यारी है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ।
यह जो दुनिया है, वन है कांटो का, तू फुलवारी है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ॥

दुखन लागी हैं माँ तेरी अँखियाँ,
मेरे लिए जागी है तू सारी सारी रतिया।
मेरी निदिया पे अपनी निदिया भी तूने वारी है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ॥

अपना नहीं तुझे सुख दुःख कोई,
मैं मुस्काया तू मुस्काई मैं रोया तू रोई।
मेरे हसने पे मेरे रोने पे तू बलिहारी है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ॥

माँ बच्चो की जा होती है,
वो होते हैं किस्मत वाले, जिनकी माँ होती है।
कितनी सुन्दर है, कितनी शीतल है, न्यारी न्यारी है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ॥

मेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा है

मेरा आपकी दया से सब काम हो रहा है।
करते हो तुम कन्हिया मेरा नाम हो रहा है॥

पतवार के बिना ही मेरी नाव चल रही है।
हैरान है ज़माना मंजिल भी मिल रही है।
करता नहीं मैं कुछ भी, सब काम हो रहा है॥

तुम साथ हो जो मेरे, किस चीज की कमी है।
किसी और चीज की अब दरकार ही नहीं है।
तेरे साथ से गुलाम अब गुलफाम हो रहा है॥

मैं तो नहीं हूँ काबिल, तेरा पार कैसे पाऊं।
टूटी हुयी वाणी से गुणगान कैसे गाऊं।
तेरी प्रेरणा से ही सब यह कमाल हो रहा हैं॥

मेरी जान है राधा, तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा

अरे रे मेरी जान है राधा, तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
अरे रे मेरी जान है राधा, तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं..
जब भी बने तू राधा, श्याम बनूँगा,
जब भी बने तू सीता, राम बनूँगा..
तेरे बिना आधा सुबह शाम कहूँगा॥

आसमां से राधा राधा नाम कहूँगा
अरे रे मेरी जान है राधा, तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं
सुन्दर नैन, विशाल मोहिनी सूरत, प्यारी हैं
कितनी ग्वालन गोपियाँ, तू सबसे न्यारी है
तुम बिन रास रचाऊ कैसे, जानत सारी है॥

श्याम की दिल की रानी तू ,बरसाने वाली है
अरे रे मेरी जान है राधा, तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं
तेरा ही तो नाम पुकारे बंसी गोरी री
दुनिया भी पहचाने राधा महक टोरी री
तूने किन्नी नैनं से मेरी मन की चोरी री॥

कैसी जोड़ी कृष्ण कारा, राधा गोरी री
अरे रे मेरी जान है राधा तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं
हिचकी आये राधा तेरी याद सताती है
यमुना की लहरों में तेरी झलक सी आती हैं
सज धज के सखियों संग तू पनघट जाती हैं॥

सूखी धरती में भी प्रीत की कमल खिलाती हैं
अरे रे मेरी जान है राधा तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा –2
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं
जब भी बने तू राधा श्याम बनूँगा
जब भी बने तू सीता राम बनूँगा
तेरे बिना आधा सुबह o शाम कहूँगा –2
आसमान से राधा राधा नाम कहूँगा
अरे रे मेरी जान है राधा तेरे पे क़ुर्बान मैं राधा
रह न सकूंगा तुमसे दूर मैं

कान्हा की दीवानी, मीरा हो गई बदनाम।

श्लोक – राम तने रंग राची मैं तो,
साँवरिया रंग राची,
कोई कहे मीरा बाँवरी,
कोई कहे मदमाती।
कान्हा की दीवानी,
मीरा हो गई बदनाम,
कान्हा की दीवानी,
दीवानी कान्हा की,
मीरा हो गई बदनाम,
अपने तन की सुध बुध भूली,
भूले जग के काम,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

प्रेम के पथ पर,
प्रेम पुजारन,
पी का प्यार लिए,
पी का प्यार लिए,
श्याम की माला जपते जपते,
पि गई जहर का जाम,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

रंग पिया के,
रंग ली चुनरिया,
ले इकतारा चली,
ले इकतारा चली,
रानी ये भी ना जानी,
कब दिन हुई कब शाम,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

स्वप्न सुनहले,
महल दो महले,
खुशियों का संसार,
खुशियों का संसार,
‘लख्खा’ त्याग दिया मीरा ने,
सुख का सब आराम,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

प्रेम जो देखा,
पावन उसका,
मिल गए मदन गोपाल,
मिल गए मदन गोपाल,
राधा रुक्मण को ना मिला जो,
वो मिला सम्मान,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

कान्हा की दीवानी,
मीरा हो गई बदनाम,
कान्हा की दीवानी,
दीवानी कान्हा की,
मीरा हो गई बदनाम,
अपने तन की सुध बुध भूली,
भूले जग के काम,
कान्हा की दिवानी,
मीरा हो गई बदनाम।।

मेरे प्यारे कन्हैया, ओ बंसी बजैया

मेरे प्यारे कन्हैया,
ओ बंसी बजैया,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
छोटी गैया चराने आजा,
छोटी गैया चराने आजा,
मेरे प्यारे कन्हैया,
तू बंसी बजैया।।

देवकी ने जायो,
को जशोदा जी बतायो,
कोई नन्द बतायो,
कोई वासु जी बतायो,
यशुमति ने तुझपे जो,
ममता लुटाई,
सबको फिर से बताने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
मेरे प्यारे कन्हैयाँ,
तू बंसी बजैया।।

खुल गए सारे ताले,
बिना किसी चाबी,
काली रातें अंधियारी,
तूने की उजाली,
जग में जो छाया है,
फिर से अँधेरा,
फिर से उसको मिटाने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
मेरे प्यारे कन्हैयाँ,
तू बंसी बजैया।।

छोटी छोटी गाएँ तेरी,
छोटे छोटे ग्वाला,
प्यारी प्यारी गोपियाँ,
बुलाए नंदलाला,
छीके पे रखे दही और माखन,
उनको फिर से चुराने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
मेरे प्यारे कन्हैयाँ,
तू बंसी बजैया।।

मेरे प्यारे कन्हैया,
ओ बंसी बजैया,
फिर से बंसी बजाने तू आजा,
छोटी गैया चराने आजा,
छोटी गैया चराने आजा,
मेरे प्यारे कन्हैया,
तू बंसी बजैया।।

Lakhbir singh lakha lyrics in hindi , , Shri Krishna Bhajan lyrics in hindi ,Gyanendra Sharma lyrics in hindi , , Shri Krishna lyrics in hindi ,Shri Krishna Bhajan, Vinod Ji AgarwalRaju Punjabi lyrics in hindi , , Shri Krishna BhajanJaya Kishori ji lyrics in hindi , , Shri Krishna BhajanAarti Mukharjee lyrics in hindi , , Jaspal Singh lyrics in hindi , , Shri Krishna Bhajan lyrics in hindi ,Shri Krishna Bhajan lyrics in hindi , , Tripti ShakyaSeema Saawariya, Shri Krishna BhajanPrem Mehra, Shri Krishna BhajanShri Krishna Bhajan lyrics in hindi , , Vidhi lyrics in hindi ,lyrics in hindi ,
Top 10 Krishan Ji bhajan lyrics,

Leave a Reply

Your email address will not be published.