Radhe Tav Rusava Ka राधे, तव रुसवा का गे

राधे, तव रुसवा का गे
प्रेम सुधारस मधुर मधुर पी गे

तव सुखनिधान शाम गुणवान
तयास तू सन्मान दे गे

क्षणभंगूर तारुण्य कहाणी
अमर प्रीत वरदान घे गे

Leave a Reply