हम दिल का कँवल Hum Dil Ka Kanwal Lyrics in Hindi from Zindagi (1964)

Hum Dil Ka Kanwal Lyrics in Hindi. हम दिल का कँवल song from Zindagi 1964.

Song Name : Hum Dil Ka Kanwal
Album / Movie : Zindagi 1964
Star Cast : Rajendra Kumar, Vyjayanthimala, Prithviraj Kapoor
Singer : Lata Mangeshkar
Music Director : Jaikishan Dayabhai Panchal, Shankar Singh Raghuvanshi
Lyrics by : Shailendra (Shankardas Kesarilal)
Music Label : Saregama

Hum Dil Ka Kanwal Lyrics in Hindi :

हम दिल का कँवल देंगे जिसको
होगा कोई एक हज़ारों में
सागर में कही ज्यों एक मोटी
जैसे चंदा एक सितारों में

ये रूप रंग की फुलवारी
उसके ही लिए ये फूल खिले
ये रूप रंग की फुलवारी
उसके ही लिए ये फूल खिले
सब कुछ देना है सौंप
उसे जिस दिन जिस पल वो आन मिले
बागों में उसी के चर्चे हैं
है उसकी बात बहारों में

ठंडी सी जलन मन के अंदर
मीठी सी कसक दिल में लेकर
ठंडी सी जलन मन के अंदर
मीठी सी कसक दिल में लेकर
हम खोज में उसकी नकल
है इन रहो और दोराहे पर
शायद वो आज ही मिलजाए
है प्यार का रंग नजरो में
शायद वो आज ही मिलजाए
है प्यार का रंग नजरो में

किसने दिल जीता ताकत से
चाहत कब आग से डरती हैं
नादाँ शिकारी क्या जाने
हिरानी किस राग पे मरती हैं
तलवार का जोर नहीं चलता हो
जाती हैं बात इशारों में
हम दिल का कँवल देंगे जिसको
होगा कोई एक हज़ारों में
सागर में कही ज्यों एक मोटी
जैसे चंदा एक सितारों में.

Hum Dil Ka Kanwal Lyrics in English :

Ham dil ka kanval denge jisko
Hoga koi ek hazaaron mein
Saagar mein kahi jyon ek moti
Jaise chanda ek sitaaron mein

Ye roop rang ki phulvaari
Uske hi liye ye phool khile
Ye roop rang ki phulvaari
Uske hi liye ye phool khile
Sab kuch dena hai saunp
Use jis din jis pal wo aan mile
Baagon mein usi ke charche hain
Hai uski baat bahaaron mein

Thandi si jalan man ke andar
Mithi si kasak dil me lekar
Thandi si jalan man ke andar
Mithi si kasak dil me lekar
Ham khoj me usaki nekale
Hai in raho aur doraho par
Saayad wo aaj hi miljaaye
Hai pyaar ka rang najaro me
Saayad wo aaj hi miljaaye
Hai pyaar ka rang najaro me

Kisne dil jeeta taakat se
Chaahat kab aag se darti hain
Naadaan shekaari kya jaane
Hirani kis raag pe marti hain
Talvaar ka zor nahi chalta ho
Jaati hain baat ishaaron mein
Ham dil ka kanval denge jisko
Hoga koi ek hazaaron mein
Saagar mein kahi jyon ek moti
Jaise chanda ek sitaaron mein.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *