सांप से बढ़के Sanp Se Badhke Lyrics in Hindi from Zehreela Insaan (1974)

Sanp Se Badhke Lyrics in Hindi. सांप से बढ़के song from Zehreela Insaan 1974.

Song Name : Sanp Se Badhke
Album / Movie : Zehreela Insaan 1974
Star Cast : Rishi Kapoor, Moushumi Chatterjee, Neetu Singh
Singer : Shailendra Singh
Music Director : Rahul Dev Burman
Lyrics by : Majrooh Sultanpuri
Music Label : Saregama

Sanp Se Badhke Lyrics in Hindi :

सैप से बढ़के मेरा जहर है
मई हु गज़ब का जहरीला इंसान
उसका जहर तो दुनिआ उत्तर दे
मेरे जहर से बचाये भगवन

सैप से बढ़के मेरा जहर है
मई हु गज़ब का जहरीला इंसान
उसका जहर तो दुनिआ उत्तर दे
मेरे जहर से बचाये भगवन
सैप से बढ़के मेरा जहर है
मई हु गज़ब का जहरीला इंसान

दुनिआ के सितम से पत्थर के
सचे में मुझे ढला
तूफानों से मुझे पाला
बस प्यार झुका सकता मुझको
या उपरवाला
मई दोनों का ही मतवाला
मुझे प्यार के बदले में
नफरत से अगर छेड़ा
उठ जायेगा फिर तूफ़ान
सैप से बढ़के मेरा जहर है
मई हु गज़ब का जहरीला इंसान
उसका जहर तो दुनिआ उत्तर दे
मेरे जहर से बचाये भगवन

मैं राम हूँ ऐसे अन्यायी
संसार के ाँगा में
ये भेजा है मुझे वन में
जो आग लगी थी लंका में
सुलगे है मेरे मन में
भड़के है मेरे मन में
समझी न अगर मुझको
पछ्तायेगी ये दुनिआ
करके मेरा अपमान
सैप से बढ़के मेरा जहर है
मई हु गज़ब का जहरीला इंसान
उसका जहर तो दुनिआ उत्तर दे
मेरे जहर से बचाये भगवन.

Sanp Se Badhke Lyrics in English :

Sap se badhke mera jahar hai
Mai hu gazab ka jaharila insan
Uska jahar to dunia utar de
Mere jahar se bachaye bhagwan

Sap se badhke mera jahar hai
Mai hu gazab ka jaharila insan
Uska jahar to dunia utar de
Mere jahar se bachaye bhagwan
Sap se badhke mera jahar hai
Mai hu gazab ka jaharila insan

Dunia ke sitam se pathar ke
Sache me mujhe dhala
Toofano se mujhe pala
Bas pyar jhuka sakta mujhko
Ya uparwala
Mai dono ka hi matwala
Mujhe pyar ke badle me
Nafrat se agar cheda
Uth jayega fir toofan
Sap se badhke mera jahar hai
Mai hu gazab ka jaharila insan
Uska jahar to dunia utar de
Mere jahar se bachaye bhagwan

Mai ram hu aise anyayi
Sansar ke aanga me
Ye bheja hai mujhe van me
Jo aag lagi thi lanka me
Sulage hai mere man me
Bhadke hai mere man me
Samjhi na agar mujhko
Pachtayegi ye dunia
Karke mera apman
Sap se badhke mera jahar hai
Mai hu gazab ka jaharila insan
Uska jahar to dunia utar de
Mere jahar se bachaye bhagwan.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *