समय का पंछी Samay Ka Panchhi Lyrics in Hindi from Aag

Samay Ka Panchhi Lyrics in Hindi. समय का पंछी song from Aag.

Song Name : Samay Ka Panchhi
Album / Movie : Aag
Star Cast : Feroz Khan, Mumtaz, Aruna Irani, Shyama, Srandhir, Madan Puri, Jeevan
Singer : Mahendra Kapoor
Music Director : Usha Khanna
Lyrics by : Asad Bhopali
Music Label : Saregama

Samay Ka Panchhi Lyrics in Hindi :

समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए
एक उजला एक कला पर फैलाये
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए

जबसे आये दिन सावन के
धरती झूमे दुल्हन बांके
जबसे आये दिन सावन के
धरती झूमे दुल्हन बांके
डाली डाली लचकि जाये
डाली डाली लचकि जाये रे
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए
एक उजला एक कला पर फैलाये
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए

बरखा रुत ने ज़ुल्फ़े झटकी
मोती बिखरे कलिया चटकी
बरखा रुत ने ज़ुल्फ़े झटकी
मोती बिखरे कलिया चटकी
गली गली महकी जाये
गली गली महकी जाये रे
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए
एक उजला एक कला पर फैलाये
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए

अबकी बरस भी रुत अलबेली
साज़ दहेज के आयी है अकेली
अबकी बरस भी रुत अलबेली
साज़ दहेज के आयी है अकेली
कोई नहीं साथि है
कोई नहीं साथि हा रे रे
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए
एक उजला एक कला पर फैलाये
समय का पंछी उड़ता जाए
समय का पंछी उड़ता जाए.

Samay Ka Panchhi Lyrics in English :

Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye
Ek ujla ek kala par failaye
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye

Jabse aaye deen sawan ke
Dharti jhume dulhan banke
Jabse aaye deen sawan ke
Dharti jhume dulhan banke
Dali dali lachki jaye
Dali dali lachki jaye re
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye
Ek ujla ek kala par failaye
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye

Barkha rut ne zulfe jhatki
Moti bikhre kaliya chatki
Barkha rut ne zulfe jhatki
Moti bikhre kaliya chatki
Gali gali mahki jaye
Gali gali mahki jaye re
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye
Ek ujla ek kala par failaye
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye

Abke baras bhi rut albeli
Saz dhaz ke aayi hai akeli
Abke baras bhi rut albeli
Saz dhaz ke aayi hai akeli
Koi nahi sathi ha
Koi nahi sathi ha re re
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye
Ek ujla ek kala par failaye
Samay ka panchhi udta jaye
Samay ka panchhi udta jaye.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *