रिश्ता यह मोहब्बत का Rishta Yeh Mohabbat Ka Lyrics in Hindi from Aag Ka Dariya

Rishta Yeh Mohabbat Ka Lyrics in Hindi. रिश्ता यह मोहब्बत का song from Aag Ka Dariya
Song Name : Rishta Yeh Mohabbat Ka
Album / Movie : Aag Ka Dariya
Star Cast : Dilip Kumar, Rekha, Amrita Singh, Avtar Gill, Padmini Kolhapure
Singer : Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar
Music Director : Laxmikant Shantaram Kudalkar (Laxmikant Pyarelal), Pyarelal Ramprasad Sharma (Laxmikant Pyarelal)
Lyrics by : Rajendra Krishan
Music Label : Saregama

Rishta Yeh Mohabbat Ka Lyrics in Hindi :

रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना है
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना हैं
एक आग का दरिया हैं
और पान भी जाना हैं
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना हैं
एक आग का दरिया हैं
और पान भी जाना हैं
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना है

जिस रात चाँदनीय से
ये चाँद ख़फ़ा होगा
जिस रात चाँदनीय से
ये चाँद ख़फ़ा होगा
उस रात के राही का सोचा
भी हैं क्या होगा
रस्ते में अँधेरा हैं
और दूर ठिकाना है
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना है

वो घर भी कोई घर हैं
दीवार न हो जिसमें
वो घर भी कोई घर हैं
दीवार न हो जिसमें
उस प्यार की क्या कीमत
तकरार न हो जिसमे
गुस्सा तो मानाने का
बस एक बहाना है
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना है

भूले से कोई आंसू
आँखों में अगर आये
भूले से कोई आंसू
आँखों में अगर आये
वो दिल की अमानत हैं
मिटटी में न मिल जाये
उल्फत का वो मोती हैं
पलको में छुपना हैं
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना हैं
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना हैं
एक आग का दरिया हैं
और पान भी जाना हैं
एक आग का दरिया हैं
और पान भी जाना हैं
रिश्ता ये मोहब्बत का
दोनों को निभाना हैं
दोनों को निभाना हैं
दोनों को निभाना हैं.

Rishta Yeh Mohabbat Ka Lyrics in English :

Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hai
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hain
Ek aag ka dariya hain
Aur pan bhi jana hain
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hain
Ek aag ka dariya hain
Aur pan bhi jana hain
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hai

Jis raat chandaniya se
Ye chand khafa hoga
Jis raat chandaniya se
Ye chand khafa hoga
Us raat ke rahi ka socha
Bhi hain kya hoga
Raste mein andhera hain
Aur dur thikana hai
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hai

Vo ghar bhi koi ghar hain
Divar na ho jismein
Vo ghar bhi koi ghar hain
Divar na ho jismein
Us pyar ki kya kimat
Takrar na ho jisme
Gussa to manane ka
Bas ek bahana hai
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hai

Bhule se koi aansoo
Aankho mein agar aaye
Bhule se koi aansoo
Aankho mein agar aaye
Vo dil ki amant hain
Mitti mein na mil jaye
Ulfat ka vo moti hain
Palako mein chhupana hain
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hain
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hain
Ek aag ka dariya hain
Aur pan bhi jana hain
Ek aag ka dariya hain
Aur pan bhi jana hain
Rishta ye mohabbat ka
Dono ko nibhana hain
Dono ko nibhana hain
Dono ko nibhana hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *