ये दिल नहीं की जिसके Ye Dil Nahi Ki Jiske Lyrics in Hindi from Aabroo (1968)

Ye Dil Nahi Ki Jiske Lyrics in Hindi. ये दिल नहीं की जिसके song from Aabroo 1968.

Song Name : Ye Dil Nahi Ki Jiske
Album / Movie : Aabroo 1968
Star Cast : Ashok Kumar, Nirupa Roy
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Master Sonik, Om Prakash Sonik
Lyrics by : G.L. Rawal
Music Label : Saregama

Ye Dil Nahi Ki Jiske Lyrics in Hindi :

ये दिल नहीं की जिसके सहारे जीते हैं
ये दिल नहीं की जिसके सहारे जीते हैं
लहू का जाम है जो सुबहो
शाम पीते हैं ये दिल नहीं है

छुपाया लाख मगर
इश्क़ नहीं छुपता
छुपाया लाख मगर
इश्क़ नहीं छुपता
यूँ अश्क आँख में
आया हुवा नहीं रुकता
की आग लगती है कि आग लगती
है जब आंसुओं को पीते हैं
लहू का जाम है जो सुबहो
शाम पीते हैं ये दिल नहीं है

तड़प तड़प के निकालेंगे
दिल के अरमां हम
तड़प तड़प के निकालेंगे
दिल के अरमां हम
करेंगे रंज से पैदा
कृषि के सामान हम
की ग़मों की नोक से की ग़मों की
नोक से दिल के ज़ख़्म साइट हैं
लहू का जाम है जो सुबहो
शाम पीते हैं ये दिल नहीं है

कभी करार न आएगा हमको जीने से
कभी करार न आएगा हमको जीने से
इलाज ज़हर का होता है ज़हर पीने से
की सर पे मौत का की सर पे
मौत का साया है फिर भी जीते हैं
लहू का जाम है जो
सुबहो शाम पीते हैं
ये दिल नहीं की जिसके सहारे जीते हैं
ये दिल नहीं की जिसके सहारे जीते हैं.

Ye Dil Nahi Ki Jiske Lyrics in English :

Ye dil nahi ki jiske sahaare jite hain
Ye dil nahi ki jiske sahaare jite hain
Lahu ka jaam hai jo subaho
Shaam pite hain ye dil nahi hai

Chhupaaya laakh magar
Ishq nahin chupta
Chhupaaya laakh magar
Ishq nahin chupta
Yun ashq aankh mein
Aaya huwa nahi rukta
Ki aag lagti hai ki aag lagti
Hai jab aansuo ko pite hain
Lahu ka jaam hai jo subaho
Shaam pite hain ye dil nahi hai

Tadap tadap ke nikalenge
Dil ke aramaan ham
Tadap tadap ke nikalenge
Dil ke aramaan ham
Karenge ranj se paida
Kushi ke samaan ham
Ki gamon ki nok se ki gamon ki
Nok se dil ke zakham site hain
Lahu ka jaam hai jo subaho
Shaam pite hain ye dil nahi hai

Kabhi karaar na aayega humko jine se
Kabhi karaar na aayega humko jine se
Ilaaj zeher ka hota hai zeher pine se
Ki sar pe maut ka ki sar pe
Maut ka saaya hai phir bhi jite hain
Lahu ka jaam hai jo
Subaho shaam pite hain
Ye dil nahi ki jiske sahaare jite hain
Ye dil nahi ki jiske sahaare jite hain.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *