यह फ़ासले यह दूरियां Yeh Faasle Yeh Dooriyan Lyrics in Hindi from Zameen Aasmaan (1984)

Yeh Faasle Yeh Dooriyan Lyrics in Hindi. यह फ़ासले यह दूरियां song from Zameen Aasmaan 1984.

Song Name : Yeh Faasle Yeh Dooriyan
Album / Movie : Zameen Aasmaan 1984
Star Cast : Sanjay Dutt, Shashi Kapoor, Rekha, Anita Raj
Singer : Lata Mangeshkar
Music Director : Rahul Dev Burman
Lyrics by : Anjaan
Music Label : CBS

Yeh Faasle Yeh Dooriyan Lyrics in Hindi :

ये फसले ये दूरिया कैसी हैं ये मजबूरिया
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते
ये फसले ये दूरिया कैसी हैं ये मजबूरिया
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते

जाने क्या है बेबशी
बस न किसीका चले
सदियों से बदले नहीं
कुदरत के है फैसले
क्यों है जुदा दोनों जहा
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते
ये फसले ये दूरिया कैसी हैं ये मजबूरिया
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते

आँचल में फूल क्या खिले
होठों की हसि खिल गयी
हो कैसे होंगे लूज़ जुड़ा
शामा ही जलती रहे
तनहा रहे क्यों ये जिस्म जा
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते
ये फसले ये दूरिया कैसी है ये मजबूरिया
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते

आँखों मैं अगर हो असर
मुमकिन है फिर क्या नहीं
हो चुमे ज़मीन के कदम
ये आसमान भी कही
एक दिन मिले दोनों जहाँ
कैसे कहे कोई यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते
ये फसले ये दूरिया कैसी है ये मजबूरिया
मिलके भी क्यों आखिर यहाँ
ज़मीं आसमां नहीं मिलते.

Yeh Faasle Yeh Dooriyan Lyrics in English :

Ye fasle ye duriya kaisi hain ye majburiya
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte
Ye fasle ye duriya kaisi hain ye majburiya
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte

Jaane kya hai bebashi
Bas na kisika chale
Sadiyo se badale nahi
Kudarat ke hai faisle
Kyon hai juda dono jahaa
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte
Ye fasle ye duriya kaisi hain ye majburiya
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte

Aachal me phool kya khile
Hotho ki hasi khil gayi
Ho kaise honghe lose juda
Shama hi jalti rahe
Tanha rahe kyon ye jism ja
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte
Ye fasle ye duriya kaisi hai ye majburiya
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte

Ankho main agar ho asar
Mumkeen hai phir kya nahi
Ho chume zameen ke kadam
Ye aasman bhi kahi
Ek din mile dono jahan
Kaise kahe koi yaha
Zameen aasma nahi milte
Ye fasle ye duriya kaisi hai ye majburiya
Milke bhi kyu aakhir yaha
Zameen aasma nahi milte.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *