मुबारक हो मुबारक Mubarak Ho Mubarak Lyrics in Hindi from Zaalim (1994)

Mubarak Ho Mubarak Lyrics in Hindi. मुबारक हो मुबारक song from Zaalim 1994.
Song Name : Mubarak Ho Mubarak
Album / Movie : Zaalim 1994
Star Cast : Akshay Kumar, Madhoo, Vishnuvardhan, Ranjeet, Mohan Joshi, Alok Nath, Arjun, Arun Bakshi, Sabeeha, Navneet Nishan, Preeti Khare, Rakesh Bedi, Tiku Talsania, Vikram Bali, Shiva Rindani, Padma Rani, Nalini, Baby Shirin, Javed Khan
Singer : Alka Yagnik, Kumar Sanu
Music Director : Anu Malik
Music Label : Tips Music

Mubarak Ho Mubarak Lyrics in Hindi :

मुबारक हो मुबारक हो
मोहब्बत घुनघुनाती हैं
तुम्हारा दिल धड़कता हैं
मुझे आवाज़ आती हैं
मुझे आवाज़ आती हैं

मुबारक हो मुबारक हो
मोहब्बत घुनघुनाती हैं
तुम्हारा दिल धड़कता हैं
मुझे आवाज़ आती हैं
मुबारक हो मुबारक हो
मोहब्बत घुनघुनाती हैं
तुम्हारा दिल धड़कता हैं
मुझे आवाज़ आती हैं
मुझे आवाज़ आती हैं

कहें जाउँ जुड़ा होता
नहीं दिल तेरी महफ़िल से
नहीं मालूम क्या रिश्ता हैं
इस दिल का तेरे दिल से
ये क्या दीवानगी हैं
प्यार का ये सिलसिला हैं
न नींद आये न चैन आये
मुझे आखिर हुआ क्या हैं
मुझे आखिर हुआ क्या हैं
कहीं जाउँ मोहब्बत दर्द
तेरे खिंच लाती हैं
तुम्हारा दिल धड़कता हैं
मुझे आवाज़ आती हैं
मुझे आवाज़ आती हैं

पत्ता जाने तमन्ना देखा कर
तुझको मैं इधर देखूं
मुझे बस तू नज़र आये
जहाँ देखूँ जिधर देखूं
तुझे मैं क्यों नहीं चूमू
ये जाने ज़िन्दगी  तू हैं
तुझे मैं क्यों नहीं पुजू
के जाने तू आशिक़ी हैं
के जाने तू आशिक़ी हैं
हमारी ज़िन्दगी तेरे लबों से
गीत गाती हैं
तुम्हारा दिल धड़कता हैं
मुझे आवाज़ आती हैं
मुझे आवाज़ आती हैं.

Mubarak Ho Mubarak Lyrics in English :

Mubarak ho mubarak ho
Mohabbat ghunghunati hain
Tumhara dil dhadakta hain
Mujhe awaaz aati hain
Mujhe awaaz aati hain

Mubarak ho mubarak ho
Mohabbat ghunghunati hain
Tumhara dil dhadakta hain
Mujhe awaaz aati hain
Mubarak ho mubarak ho
Mohabbat ghunghunati hain
Tumhara dil dhadakta hain
Mujhe awaaz aati hain
Mujhe awaaz aati hain

Kahein jaaun judaa hota
Nahi dil teri mehfil se
Nahin maaloom kyaa rishta hain
Iss dil ka tere dil se
Ye kyaa deewangi hain
Pyaar ka ye silsila hain
Na neend aaye na chain aaye
Mujhe aakhir huaa kyaa hain
Mujhe aakhir huaa kyaa hain
Kahin jaaun mohabbat dard
Tere khinch laati hain
Tumhara dil dhadakta hain
Mujhe awaaz aati hain
Mujhe awaaz aati hain

Patta jaane tamnna dekha kar
Tujhko main idhar dekhun
Mujhe bas tu nazar aaye
Jahan dekhun jidhar dekhun
Tujhe main kyun nahi choomu
Ye jaane zindagi  tu hain
Tujhe main kyun nahi puju
Ke jaane tu aashiqi hain
Ke jaane tu aashiqi hain
Hamari zindagi tere labon se
Geet gaati hain
Tumhara dil dhadakta hain
Mujhe awaaz aati hain
Mujhe awaaz aati hain.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *