बहुत हसीं है Bahut Haseen Hai Lyrics in Hindi from Aadhi Raat Ke Baad

Bahut Haseen Hai Lyrics in Hindi. बहुत हसीं है song from Aadhi Raat Ke Baad.

Song Name : Bahut Haseen Hai
Album / Movie : Aadhi Raat Ke Baad
Star Cast : Ashok Kumar, Ragini, Sailesh Kumar, Agha, Sajjan, Ulhas, Murad, Rajan Haksar, Kumar
Singer : Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur
Music Director : Chitragupta Shrivastava
Lyrics by : Prem Dhawan
Music Label : Saregama

Bahut Haseen Hai Lyrics in Hindi :

बहुत हसि है तुम्हारी आँखे
कहो तो मैं इनसे प्यार कर लो
बड़ा है धोखा तेरी नजर में
मै किस तरह एतबार कर लो
बहुत हसि है तुम्हारी आँखे
कहो तो मैं इनसे प्यार कर लो

ये भीनी भीनी हवा की खुश्बू
महक है तेरे ही तन बदन की
ये भीनी भीनी हवा की खुश्बू
महक है तेरे ही तन बदन की
तुम भर के बोलो सतक न जाये
कोई नवेली चमेली कमल में
मेरी काली तुम
मेरी काली तुम अगर कहो तो
मैं जिंदगी को बाहर कर लू
बड़ा है धोखा है तेरी नजर में
मै किस तरह एतबार कर लो

हज़ार बातें है ऐसी दिल में
जो रुक गयी है जुबा पे आके
हज़ार बातें है ऐसी दिल में
जो रुक गयी है जुबा पे आके
जो बात लब पे मचल रही है
वो आज कह दू नज़र मिला के
किसी की होक
किसी की होके जान खोके
मई दिल को क्यों बेक़रार कर लू
बहुत हसि है तुम्हारी आँखे
कहो तो मैं इनसे प्यार कर लो

गिनो न अब धड़कने हमारी
न और लो इम्तिहा हमारा
गिनो न अब धड़कने हमारी
न और लो इम्तिहा हमारा
इसे न समझो तुम आज़माये
यही तो ुल्फर का है इशारा
अगर ये सच है
अगर ये सच है तो मरते दम तक
मई आपका इंतज़ार कर लू
बड़ा है धोखा है तेरी नजर में
मै किस तरह एतबार कर लो
बहुत हसि है तुम्हारी आँखे
कहो तो मैं इनसे प्यार कर लो.

Bahut Haseen Hai Lyrics in English :

Bahut hasi hai tumhari aankhe
Kaho to mai inse pyar kar lu
Bada hai dhokha teri najar me
Mai kis tarah etbar kar lu
Bahut hasi hai tumhari aankhe
Kaho to mai inse pyar kar lu

Ye bhini bhini hawa ki khusbu
Mahak hai tere hi tan badan ki
Ye bhini bhini hawa ki khusbu
Mahak hai tere hi tan badan ki
Tum bhar ke bolo satak na jaye
Koi naweli chameli kamal me
Meri kali tum
Meri kali tum agar kaho to
Mai jindagi ko bahar kar lu
Bada hai dhokha hai teri najar me
Mai kis tarah etbar kar lu

Hazar bate hai aisi dil me
Jo ruk gayi hai juba pe aake
Hazar bate hai aisi dil me
Jo ruk gayi hai juba pe aake
Jo bat lab pe machal rahi hai
Wo aaj kah du najar mila ke
Kisi ki hoke
Kisi ki hoke jan khoke
Mai dil ko kyu bekarar kar lu
Bahut hasi hai tumhari aankhe
Kaho to mai inse pyar kar lu

Gino na ab dhadkane hamari
Na aur lo imtiha hamara
Gino na ab dhadkane hamari
Na aur lo imtiha hamara
Ise na samjho tum aazmaye
Yahi to ulfar ka hai ishara
Agar ye sach hai
Agar ye sach hai to marte dam tak
Mai aapka intzar kar lu
Bada hai dhokha hai teri najar me
Mai kis tarah etbar kar lu
Bahut hasi hai tumhari aankhe
Kaho to mai inse pyar kar lu.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *