बस में नहीं है जवानी मेरी Bas Mein Nahi Hai Jawani Meri Lyrics in Hindi from Aag Ke Sholay (1988)

Bas Mein Nahi Hai Jawani Meri Lyrics in Hindi. बस में नहीं है जवानी मेरी song from Aag Ke Sholay 1988.

Song Name : Bas Mein Nahi Hai Jawani Meri
Album / Movie : Aag Ke Sholay 1988
Star Cast : Hemant Birje, Gulshan Grover, Vijeta Pandit, Sumeet Saigal
Singer : Alka Yagnik
Music Director : Vijay Batalvi
Music Label : Shemaroo

Bas Mein Nahi Hai Jawani Meri Lyrics in Hindi :

बस में नहीं हैं जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
बस में नहीं हैं जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
कैसे तुझे समझौ क्यों हैं
मुझे ज़रूरत तेरी
मैं मर मर जाऊ हाय
कुछ कह भी न पाव
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव

बस में नहीं हैं जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
बस में नहीं हैं जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
कैसे तुझे समझौ
क्यों हैं मुझे ज़रूरत तेरी
मैं मर मर जाऊ हाय
हाय कुछ कह भी न पाव
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव

दर्द ये मीठा मीठा
मुझे पहली बार हुआ हैं
दर्द ये मीठा मीठा
मुझे पहली बार हुआ हैं
मेरे इस दर्द की सैया
बस तेरे पास दवा हैं
जल्दी से मेरी तू दावा कर दे
खली मेरी झोली हैं तू भर दे
मैं मर मर जाऊ हा हा
कुछ कह भी न पाव
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव

तेरे भी अंदर कोई
तूफान तो उठता होगा
तेरे भी अंदर कोई
तूफान तो उठता होगा
तेरे भी तन में सैया
शोला सा भडकता होगा
तुझको ये डर है
मैं हा न कहूँगी
आज़मके देख
आज न न कहूँगी
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव

बस में नहीं है जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
बस में नहीं है जवानी
मेरी बात समझ ो बैरी
कैसे तुझे समझौ
क्यों है मुझे ज़रूरत तेरी
मैं मर मर जाऊ है
कुछ कह भी न पाव
मैं मर मर जाऊ
कुछ कह भी न पाव.

Bas Mein Nahi Hai Jawani Meri Lyrics in English :

Bas mein nahi hain jawani
Meri baat samjh o bairi
Bas mein nahi hain jawani
Meri baat samjh o bairi
Kaise tujhe samjhau kyu hain
Mujhe zaroorat teri
Main mar mar jau haye
Kuch kah bhi na pau
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau

Bas mein nahin hain jawani
Meri baat samjh o bairi
Bas mein nahin hain jawani
Meri baat samjh o bairi
Kaise tujhe samjhau
Kyu hain mujhe zaroorat teri
Main mar mar jau haye
Haye kuch kah bhi na pau
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau

Dard ye mitha mitha
Mujhe pehli bar huya hain
Dard ye mitha mitha
Mujhe pehli bar huya hain
Mere is dard ki saiya
Bas tere pas dava hain
Jaldi se meri tu dava kar de
Khali meri jholi hain tu bhar de
Main mar mar jau ha ha
Kuch kah bhi na pau
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau

Tere bhi andar koi
Tufan to uthata hoga
Tere bhi andar koi
Tufan to uthata hoga
Tere bhi tan mein saiya
Shola sa bhadkta hoga
Tujhko ye dar hai
Main ha na kahungi
Aazmake dekh
Aaj na na kahungi
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau

Bas mein nahi hai jawani
Meri baat samjh o bairi
Bas mein nahi hai jawani
Meri baat samjh o bairi
Kaise tujhe samjhau
Kyu hai mujhe zaroorat teri
Main mar mar jau ha
Kuch kah bhi na pau
Main mar mar jau
Kuch kah bhi na pau.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *