दुश्मन न करे Dushman Na Kare Lyrics in Hindi from Aakhir Kyon (1985)

Dushman Na Kare Lyrics in Hindi. दुश्मन न करे song from Aakhir Kyon 1985

Song Name : Dushman Na Kare
Album / Movie : Aakhir Kyon 1985
Star Cast : Rajesh Khanna, Tina Munim, Smita Patil, Rakesh Roshan
Singer : Amit Kumar, Lata Mangeshkar
Music Director : Rajesh Roshan
Lyrics by : Indeevar (Shyamalal Babu Rai)
Music Label : T-Series

Dushman Na Kare Lyrics in Hindi :

दुश्मन न करे दोस्त ने
वो काम किया हैं
दुश्मन न करे दोस्त ने
वो काम किया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं
दुश्मन न करे दोस्त ने
वो काम किया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं

तूफ़ान में
हमको छोड़ के
साहिल पे आ गए
आए तूफ़ान में
हमको छोड़ के
साहिल पे आ गए
साहिल पे आ गए
ना खुदा का
ना खुदा का हमने
जिन्हे नाम दिया हैं
उम्र भर का ग़म हमें
इनाम दिया हैं
दुश्मन न करे ोा

पहले तो होश छीन लिए
ज़ुल्म ओ सितम से आए
पहले तो होश छीन लिए
ज़ुल्म ओ सितम से
ज़ुल्म ओ सितम से
दीवानगी का
दीवानगी का फिर
हमें इलज़ाम दिया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं
दुश्मन न करे ोा

ोा आए
अपने ही गिराते हैं
नशेमन पे बिजलियाँ
आए अपने ही गिराते हैं
ाशेमन पे बिजलियाँ
नशेमन पे बिजलियाँ
गैरो ने ा के
गैरो ने ा के फिर भी
उसे थाम लिया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं
दुश्मन न करे ोा

बन के रक़ीब बैठे हैं
वो जो हबीब थे
आए बन के रक़ीब बैठे हैं
वो जो हबीब थे
वो जो हबीब थे
यारो ने खूब
यारो ने खूब फ़र्ज़ को
अंजाम दिया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं
दुश्मन न करे दोस्त ने
वो काम किया हैं
उम्र भर का ग़म
हमें इनाम दिया हैं.

Dushman Na Kare Lyrics in English :

Dushman na kare dost ne
Wo kaam kiyaa hain
Dushman na kare dost ne
Wo kaam kiyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain
Dushman na kare dost ne
Wo kaam kiyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain

Tufaan mein
Hamako chhod ke
Saahil pe aa gaye
Aaa tufaan mein
Hamako chhod ke
Saahil pe aa gaye
Saahil pe aa gaye
Naa khudaa kaa
Naa khudaa kaa hamane
Jinhe naam diyaa hain
Umr bhar kaa gham hame
Inaam diyaa hain
Dushman na kare oa

Pahale to hosh chhin liye
Zulm o sitam se aaa
Pahale to hosh chhin liye
Zulm o sitam se
Zulm o sitam se
Diwaanagi kaa
Diwaanagi kaa phir
Hame ilzaam diyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain
Dushman na kare oa

Oa aaa
Apane hi giraate hain
Nasheman pe bijaliyaan
Aaa apane hi giraate hain
Asheman pe bijaliyaan
Nasheman pe bijaliyaan
Gairo ne aa ke
Gairo ne aa ke phir bhi
Use thaam liyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain
Dushman na kare oa

Ban ke raqib baithe hain
Wo jo habib the
Aaa ban ke raqib baithe hain
Wo jo habib the
Wo jo habib the
Yaaro ne khub
Yaaro ne khub farz ko
Anjaam diyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain
Dushman na kare dost ne
Wo kaam kiyaa hain
Umr bhar kaa gham
Hame inaam diyaa hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *