जीने के लिए ज़िन्दगी को Jeene Ke Liye Zindagi Ko Lyrics in Hindi from Zakhmo Ka Hisaab (1993)

Jeene Ke Liye Zindagi Ko Lyrics in Hindi. जीने के लिए ज़िन्दगी को song from Zakhmo Ka Hisaab 1993.
Song Name : Jeene Ke Liye Zindagi Ko
Album / Movie : Zakhmo Ka Hisaab 1993
Star Cast : Govinda, Farha Naaz, Kader Khan, Kiran Kumar, Seema Deo
Singer : Kumar Sanu
Music Director : Rajesh Roshan
Lyrics by : Anwar Sagar
Music Label : Saregama

Jeene Ke Liye Zindagi Ko Lyrics in Hindi :

जीने के लिए ज़िन्दगी को
दुनिया में हर आदमी को
कभी हसना पड़ता है
कभी रोना पड़ता है
कुछ पाने के लिए
कुछ खोना पड़ता है
जीने के लिए ज़िन्दगी को
दुनिया में हर आदमी को
कभी हसना पड़ता है
कभी रोना पड़ता है
कुछ पाने के लिए
कुछ खोना पड़ता है

बात ह िये ंसमुली सी
बात यह कोई खास नहीं
बात है यह मामूली सी
बात यह कोई खास नहीं
खुसिया बंद है
कमरे में
पर चाबी अपने पास नहीं
खुसिया बंद है
कमरे में
पर चाबी अपने पास नै
फिर भी माँ ीुदास नहीं
जीने के लिए ज़िन्दगी को
दुनिया में हर आदमी को
कभी हसना पड़ता है
कभी रोना पड़ता है
कुछ पाने के लिए
कुछ खोना पड़ता है

आने वाला कल का सूरज
नया सवेरा लायेंगे
आने वाला कल का सूरज
नया सवेरा लायेंगे
ग़म का काला अँधियारा
फिर दूर कही खो जायेगा
ग़म का काला अँधियारा
फिर दूर कही खो जायेगा
हा ऐसा सवेरा आयेगा
जीने के लिए ज़िन्दगी को
दुनिया में हर आदमी को
कभी हसना पड़ता है
कभी रोना पड़ता है
कुछ पाने के लिए
कुछ खोना पड़ता है.

Jeene Ke Liye Zindagi Ko Lyrics in English :

Jeene ke liye zindagi ko
Duniya mein har admi ko
Kabhi hasna padta hai
Kabhi rona padta hai
Kuch pane ke liye
Kuch khona padta hai
Jeene ke liye zindagi ko
Duniya mein har admi ko
Kabhi hasna padta hai
Kabhi rona padta hai
Kuch pane ke liye
Kuch khona padta hai

Bat ha iye msmuli si
Baat yeh koi khas nahi
Bat ha yeh mamuli si
Baat yeh koi khas nahi
Khusiya band hai
Kamre mein
Par chabi apne pas nahi
Khusiya band hai
Kamre mein
Par chabi apne pas nai
Phir bhi ma iudas nahi
Jeene ke liye zindagi ko
Duniya mein har admi ko
Kabhi hasna padta hai
Kabhi rona padta hai
Kuch pane ke liye
Kuch khona padta hai

Ane wala kal ka suraj
Naya sawera layega
Ane wala kal ka suraj
Naya sawera layega
Gham ka kala andhiyara
Phir door kahi kho jayega
Gham ka kala andhiyara
Phir door kahi kho jayega
Ha aisa sawera ayega
Jeene ke liye zindagi ko
Duniya mein har admi ko
Kabhi hasna padta hai
Kabhi rona padta hai
Kuch pane ke liye
Kuch khona padta hai.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *