ज़िंदा हूँ इस तरह Zinda Hoon Is Tarah Lyrics in Hindi from Aag (1948)

Zinda Hoon Is Tarah Lyrics in Hindi. ज़िंदा हूँ इस तरह song from Aag 1948.

Song Name : Zinda Hoon Is Tarah
Album / Movie : Aag 1948
Star Cast : Raj Kapoor. Nargis.Premnath
Singer : Mukesh Chand Mathur (Mukesh)
Music Director : Ram Ganguly
Lyrics by : Behzad Lucknavi
Music Label : Shamaroo

Zinda Hoon Is Tarah Lyrics in Hindi :

ज़िंदा हूँ इस तरह की
ग़म ऐ ज़िन्दगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ
मगर रोशनी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की
ग़म ऐ ज़िन्दगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ
मगर रोशनी नहीं

वह मुद्दतें हुयी
हैं किसीसे जुदा हुए
वह मुद्दतें हुयी
हैं किसीसे जुदा हुए
लेकिन ये दिल की आग
अभी तक बुझी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की ग़म

आने को आ चुका था
किनारा भी सामने
आने को आ चुका था
किनारा भी सामने
खुद उस के पास ही
मेरी नैय्या गई नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की ग़म

होंठों के पास आए
हसि क्या माझाल है
होंठों के पास आए
हसि क्या माझाल है
दिल का मुआमला
है कोई दिल्लगी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की ग़म

ये चाँद ये हवा ये
फ़िज़ा सब हैं माड मास्ट
ये चाँद ये हवा ये
फ़िज़ा सब हैं माड मास्ट
जब तू नहीं तो इन में
कोई दिलकशी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की
ग़म ऐ ज़िन्दगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ
मगर रोशनी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की
ग़म ऐ ज़िन्दगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ
मगर रोशनी नहीं
ज़िंदा हूँ इस तरह की
ग़म ऐ ज़िन्दगी नहीं
जलता हुआ दिया हूँ
मगर रोशनी नहीं.

Zinda Hoon Is Tarah Lyrics in English :

Zinda hun is tarah ki
Gham e zindagi nahin
Jalataa huaa diya hun
Magar roshani nahin
Zinda hun is tarah ki
Gham e zindagi nahin
Jalataa huaa diya hun
Magar roshani nahin

Woh muddaten huyi
Hain kisise judaa hue
Woh muddaten huyi
Hain kisise judaa hue
Lekin ye dil ki aag
Abhi tak bujhi nahin
Zinda hun is tarah ki gham

Aane ko aa chukaa thaa
Kinaaraa bhi samane
Aane ko aa chukaa thaa
Kinaaraa bhi samane
Khud us ke paas hi
Meri naiyyaa gai nahin
Zinda hun is tarah ki gham

Honthon ke paas aae
Hasi kyaa majhaal hai
Honthon ke paas aae
Hasi kyaa majhaal hai
Dil kaa muaamalaa
Hai koi dillagi nahin
Zinda hun is tarah ki gham

Ye chaand ye hawaa ye
Fizaa sab hain maad maast
Ye chaand ye hawaa ye
Fizaa sab hain maad maast
Jab tu nahin to in men
Koi dilakashi nahin
Zinda hun is tarah ki
Gham e zindagi nahin
Jalataa huaa diya hun
Magar roshani nahin
Zinda hun is tarah ki
Gham e zindagi nahin
Jalataa huaa diya hun
Magar roshani nahin
Zinda hun is tarah ki
Gham e zindagi nahin
Jalataa huaa diya hun
Magar roshani nahin.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *