एक राज़ हैं मेरे सीने में Ek Raaz Hain Mere Seene Mein Lyrics in Hindi from Zakhmo Ka Hisaab (1993)

Ek Raaz Hain Mere Seene Mein Lyrics in Hindi. एक राज़ हैं मेरे सीने में song from Zakhmo Ka Hisaab 1993.

Song Name : Ek Raaz Hain Mere Seene Mein
Album / Movie : Zakhmo Ka Hisaab 1993
Star Cast : Govinda, Farha Naaz, Kader Khan, Kiran Kumar, Seema Deo
Singer : Alka Yagnik, Mangal Singh
Music Director : Rajesh Roshan
Lyrics by : Anwar Sagar
Music Label : Saregama

Ek Raaz Hain Mere Seene Mein Lyrics in Hindi :

एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़
जो खुल गया यारो तो अल्हा ही जाने
फिर क्या क्या होगा महफ़िल में
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़
जो खुल गया यारो तो आल्हा ही
जाने फिर क्या क्या होगा महफ़िल में
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़

पॉ की मेरी पयलिया
कुछ कहने को तड़पे
पॉ की मेरी पयलिया
कुछ कहने को तड़पे
बिन्दिया चूड़ी कगना भी
कुछ कहने को तरसे
बिन्दिया चूड़ी कगना भी
कुछ कहने को तरसे
कैसे समझाऊं इन सबको यह नादानी
कर न बैठे यह दीवाने है
लैब खोल दिए जो तो अल्हा ही जाने
फिर क्या क्या होगा महफ़िल में
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़

जादू की ये छड़ी है छोटी काम बड़े इसके
जादू की ये छड़ी है छोटी काम बड़े इसके
वह इनसे बहदर बन जाये यह घुमे जिसपे
प्यार भी जहर भी हैं दोनों जिसमे
ये सोला है ये सबनम है ये चिंगारी है
जो चल गया जादू तो अल्हा ही जाने
फिर क्या क्या होगा महफ़िल में
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़
जो खुल गया यारो तो आल्हा ही
जाने फिर क्या क्या होगा महफ़िल में
एक राज़ हैं मेरे सीने में
एक राज़ हैं मेरे सीने में एक राज़.

Ek Raaz Hain Mere Seene Mein Lyrics in English :

Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere seene mein ek raaz
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere seene mein ek raaz
Jo khul gaya yaro to alha hi jane
Phir kya kya hoga mahfil mein
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere seene mein ek raaz
Jo khul gaya yaro to alha hi
Jane phir kya kya hoga mahfil mein
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere seene mein ek raaz

Paw ki meri payaliya
Kuch kahne ko tadpe
Paw ki meri payaliya
Kuch kahne ko tadpe
Bindiya chudi kagna bhi
Kuch kahne ko tarse
Bindiya chudi kagna bhi
Kuch kahne ko tarse
Kaise samjhau in sabko yeh nadani
Kar na baithe yeh deewane hai
Lab khol diye jo to alha hi jane
Phir kya kya hoga mahfil mein
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere sine mein ek raaz

Jadu ki ye chadi hai chhoti kam bade iske
Jadu ki ye chadi hai chhoti kam bade iske
Woh insa bahdar ban jaye yeh ghume jispe
Pyar bhi jahar bhi hain dono jisme
Ye sola hai ye sabnam hai ye chingari hai
Jo chal gaya jadu to alha hi jane
Phir kya kya hoga mahfil mein
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere sine mein ek raaz
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raaz hain mere sine mein ek raaz
Jo khul gaya yaro to alha hi
Jane phir kya kya hoga mahfil mein
Ek raaz hain mere seene mein,
Ek raz hain mere sine mein ek raaz.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *