उन्माद रंजीत Unmaad Ranjit Lyrics in Hindi from 332 Mumbai To India (2010)

Unmaad Ranjit Lyrics in Hindi. उन्माद रंजीत song from 332 Mumbai To India 2010.

Song Name : Unmaad Ranjit
Album / Movie : 332 Mumbai To India 2010
Star Cast : Ali Asgar, Chetan Pandit, Vijay Mishra, Sharbani Mukherjee
Singer : Vinod Rathod
Music Director : Shamir Tandon
Lyrics by : Amal Donwaar
Music Label : EMI

Unmaad Ranjit Lyrics in Hindi :

उन्माद रंजित क्रोध वशी
बूत बैर भाव जो सर चढ़ा
शुन्य हासिल रह गया
और थक गया मन बांवरा

उन्माद रंजित क्रोध वशी
बूत बैर भाव जो सर चढ़ा
शुन्य हासिल रह गया और
थक गया मन बांवरा
शुन्य हासिल रह गया और
थक गया मन बांवरा
थक गया मन बांवरा

ढूंड आँखों पर पड़ी
सब क्यों नहीं पहचानते
ढूंड आँखों पर पड़ी
सब क्यों नहीं पहचानते
अपनी ही मिट्टी का है यह
अपनी ही मिट्टी का है यह
पुतला हम सा बना हुवा
हे शुन्य हासील रह गया
और थक गया मन बांवरा
बांवरा

भूमि पुत्र है कौन कितना
प्रश्न है यह वयार्ड का
भूमि पुत्र है कौन कितना
प्रश्न है यह वयार्ड का
पेट भरा न तराजु कोई
पेट भरा न तराजु कोई
मात्र स्नेहा जो तोलता
आए शुन्य हासिल रह गया
और थक गया मन बांवरा
बांवरा बांवरा

जीवन यगण है प्रेम का
आह ो दिकर खून देश का
जीवन यगण है प्रेम का
आह ो दिकर खून देश का
भस्म कर अन्दर का अंदर
भस्म कर अन्दर का अंदर
होश कर यह भरना
आआ शुन्य हासील रह गया
और थक गया मन बांवरा
थक गया मन बांवरा
शुन्य हासिल रह गया
और थक गया मन बांवरा
थक गया मन बांवरा
शुन्य हासिल रह गया
और थक गया मन बांवरा
थक गया मन बांवरा.

Unmaad Ranjit Lyrics in English :

Unmaad ranjit krodh vashi
But beyr bhav jo sar chadha
Shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra

Unmaad ranjit krodh vashi
But beyr bhav jo sar chadha
Shunya haasil reh gaya aur
Thak gaya man banwra
Shunya haasil reh gaya aur
Thak gaya man banwra
Thak gaya man banwra

Dhund aankhon par padi,
Sab kyun nahi pehchaante
Dhund aankhon par padi,
Sab kyun nahi pehchaante
Apni hi mitti ka hai yeh
Apni hi mitti ka hai yeh
Putla ham sa bana huwa
Hey shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra
Baanwra

Bhomi putr hai kaun kitna,
Prashan hai yeh vyard ka
Bhomi putr hai kaun kitna,
Prashan hai yeh vyard ka
Pat bhara na tarazu koi
Pat bhara na tarazu koi
Maatr sneha jo tolta
Aaa shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra
Baanwra baanwra

Jeevan yagn hai prem ka,
Aah o dikar khoon desh ka
Jeevan yagn hai prem ka,
Aah o dikar khoon desh ka
Bhasm kar andar ka andar
Bhasm kar andar ka andar,
Hosh kar yeh bhaarna
Aaaa shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra
Thak gaya man banwra
Shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra
Thak gaya man banwra
Shunya haasil reh gaya
Aur thak gaya man banwra
Thak gaya man banwra.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *