आदमी सड़क का Aadmi Sadak Ka Lyrics in Hindi from Aadmi Sadak Ka (1977)

Aadmi Sadak Ka Lyrics in Hindi. आदमी सड़क का song from Aadmi Sadak Ka 1977.

Song Name : Aadmi Sadak Ka
Album / Movie : Aadmi Sadak Ka 1977
Star Cast : Shatrughan Sinha, Vikram, Zaheera, Deven Verma
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Ravi Shankar Sharma (Ravi)
Lyrics by : Verma Malik
Music Label : Saregama

Aadmi Sadak Ka Lyrics in Hindi :

कोई काम नहीं हैं
मुश्किल जब किया इरादा पक्का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
कोई काम नहीं हैं
मुश्किल जब किया इरादा पक्का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
मोहब्बत मेरा धर्म ईमान हैं
मोहब्बत मेरा धर्म
ईमान हैं मेरी जात
तोह सिर्फ इंसान हैं
वही जिसने बनाये
हैं दोनों जहां
वही जिसने बनाये
हैं दोनों जहां
वह मेरा राम हैं
मेरा रेहमान हैं
सर झुकाए तोह देखि
काशी और सजदा किया तोह मक्का
के मैं हु मैं हु
मैं हु आदमी सड़क का
कोई काम नहीं हैं
मुश्किल जब किया इरादा पक्का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
के मैं हूँ आदमी सड़क का

पीछे हट जाओ यह
मैंने सीखा नहीं
पीछे हट जाओ यह
मैंने सीखा नहीं होगी मंज़िल
कहा यह भी सोचा नहीं
जब बड़ा हौसला फट गया फासला
जब बड़ा हौसला फट गया फासला
रोकने से किसी के मैं रुकता नहीं
हिम्मत ही मेरा टेंगा
हिम्मत ही मेरा एक्का
के मैं हूँ मैं
हुन आदमी सड़क का
कोई काम नहीं हैं
मुश्किल जब किया इरादा पक्का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
के मैं हूँ आदमी सड़क का

एक सड़क हैं यह
इंसान की ज़िन्दगी
एक सड़क हैं यह
इंसान की ज़िन्दगी
इसके हर मोड पर
मिलते गम और ख़ुशी
जो भी घबराया वह
रह गया राह में
जो भी घबराया वह
रह गया राह में
और गया जो उसी को
हैं मंज़िल मिली
ठोकर को मारी ठोकर
और धक्के को मारा धक्का
के मैं हूँ मैं
हुन आदमी सड़क का
कोई काम नहीं हैं
मुश्किल जब किया इरादा पक्का
के मैं हूँ आदमी सड़क का
के मैं हूँ आदमी सड़क का.

Aadmi Sadak Ka Lyrics in English :

Koyi kaam nahi hain
Mushkil jab kiya iraada pakka
Ke main hun aadami sadak ka
Ke main hun aadami sadak ka
Koyi kaam nahi hain
Mushkil jab kiya iraada pakka
Ke main hun aadami sadak ka
Ke main hun aadami sadak ka
Mohabbat mera dharam imaan hain
Mohabbat mera dharam
Imaan hain meri jaat
Toh sirf insaan hain
Wahi jisne banaaye
Hain dono jahaan
Wahi jisne banaaye
Hain dono jahaan
Woh mera raam hain
Mera rehmaan hain
Sir jhukaaya toh dekhi
Kaashi aur sajda kiya toh makka
Ke main hu main hu
Main hu aadmi sadak ka
Koyi kaam nahi hain
Mushkil jab kiya iraada pakka
Ke main hun aadmi sadak ka
Ke main hun aadmi sadak ka

Piche hat jaau yeh
Maine sikha nahi
Piche hat jaau yeh
Maine sikha nahi hogi manzil
Kaha yeh bhi socha nahi
Jab bada hausla phat gaya phaasla
Jab bada hausla phat gaya phaasla
Rokne se kisi ke main rukta nahi
Himmat hi mera tanga
Himmat hi mera ekka
Ke main hun main
Hun aadmi sadak ka
Koyi kaam nahi hain
Mushkil jab kiya iraada pakka
Ke main hun aadami sadak ka
Ke main hun aadami sadak ka

Ek sadak hain yeh
Insaan ki zindagi
Ek sadak hain yeh
Insaan ki zindagi
Isake har mode par
Miltey gam aur khushi
Jo bhi ghabraaya woh
Reh gaya raah mein
Jo bhi ghabraaya woh
Reh gaya raah mein
Aur gaya jo usi ko
Hain manzil mili
Thokar ko maari thikar
Aur dhakke ko maara dhakka
Ke main hun main
Hun aadmi sadak ka
Koyi kaam nahi hain
Mushkil jab kiya iraada pakka
Ke main hun aadmi sadak ka
Ke main hun aadmi sadak ka.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *