आज मेरे क़ातिल की Aaj Mere Qatil Ki Lyrics in Hindi from Zahreelay (1990)

Aaj Mere Qatil Ki Lyrics in Hindi. आज मेरे क़ातिल की song from Zahreelay 1990.

Song Name : Aaj Mere Qatil Ki
Album / Movie : Zahreelay 1990
Star Cast : Jeetendra, Sanjay Dutt, Chunky Pandey, Juhi Chawla
Singer : Anuradha Paudwal, Mohammed Aziz
Music Director : Anand Shrivastav, Milind Shrivastav
Lyrics by : Majrooh Sultanpuri
Music Label : Tips Music

Aaj Mere Qatil Ki Lyrics in Hindi :

ये आँखों की मस्ती ये बातो का जादू
संभल जा मेरे दिल कहा खो गया तू
लबों पर तपासूम
बगल में छुरी हैं
लबों पर तपासूम
बगल में छुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं

लबों पर तपासूम
बगल में छुरी हैं
आज मेरे हो हो
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं

देखे दाल के बाल माथे पे
कितने तन के सनम बैठे हैं
हैं ज़रूर आज किसी से बिगड़ी
के जो यूँ बनके सनम बैठे हैं
समझ लो के बिजली
समझ लो के बिजली कही पर गिरी हैं
आज मेरे हा हा
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं

आये जो आज मेरी महफ़िल में
वो जरा होश में चलकर आये
रात में कौन किसे पहचाने
लोग है चेहरे बदल कर आये
के तेवर हैं बदले
के तेवर हैं बदले
नज़र भी फिरि हैं
आज मेरे हा हा
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं

महफ़िल से तेरी जाउँगा कहा
दीवाना तेरा हे यार हूँ मैं
पत्थर हूँ मगर ए जाने जहा
दिलबर के लिए दिलदार हूँ मैं
और चाहो तो फिर दुनिया के लिए
एक चलती हुई तलवार हूँ मैं
यहाँ जो भी आये
यहाँ जो भी आये अदब से वो बैठे
नहीं तो वो गर्दन हैं
और ये छुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
लबों पर तपासूम
बगल में छुरी हैं
आज मेरे हो हो
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं
आज मेरे क़ातिल की नीयत बुरी हैं.

Aaj Mere Qatil Ki Lyrics in English :

Ye aankho ki masti ye bato ka jadu
Sambhal ja mere dil kaha kho gaya tu
Labo par tapasum
Bagal mein chhuri hain
Labo par tapasum
Bagal mein chhuri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain

Labo par tapasum
Bagal mein chhuri hain
Aaj mere ho ho
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain

Dekhe dal ke bal mathe pe
Kitne tan ke sanam baithe hain
Hain zaroor aaj kisi se bigdi
Ke jo yun banke sanam baithe hain
Samjh lo ke bijli
Samjh lo ke bijli kahi par giri hain
Aaj mere ha ha
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain

Aaye jo aaj meri mahfil mein
Wo jara hosh mein chalkar aaye
Raat mein kaun kise pahchane
Log hai chehre badal kar aaye
Ke tewar hain badle
Ke tewar hain badle
Nazar bhi phiri hain
Aaj mere ha ha
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain

Mahfil se teri jaunga kaha
Deewana tera he yar hoon main
Pathar hoon magar aye jane jaha
Dilbar ke liye dildar hoon main
Aur chahu to phir duniya ke liye
Ek chalti huyi talwar hoon main
Yaha jo bhi aaye
Yaha jo bhi aaye adab se wo baithe
Nahi to wo gardan hain
Aur ye chhuri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Labo par tapasum
Bagal mein chhuri hain
Aaj mere ho ho
Aaj mere qatil ki niyat buri hain
Aaj mere qatil ki niyat buri hain.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *