तू चाँद है पूनम का तू चैन मेरे मन का भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

सांवरे ओ मेरे सांवरेसांवरे ओ मेरे सांवरेतू चाँद है पूनम कातू चैन मेरे मन कातुझे ना देखूं तोचैन ना आएसांवरे ओ मेरे सांवरेसांवरे ओ मेरे सांवरेतू मीत मेरे मन कातू…

Continue Reading तू चाँद है पूनम का तू चैन मेरे मन का भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

झीणी झीणी चांदनी में ओल्यूं आवै रे भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

झीणी झीणी चांदनी मेंओल्यूं आवै रे। दोहा : काजलियै री रेख स्यूंपाती लिखूं सजाए।आणो व्है तो आन मिलोऔ जीवन बीत्यो जाए।। झीणी-झीणी चांदनी मेंओल्यूं आवै रे सांवरियाझीणी-झीणी चांदनी मेंओल्यूं आवै…

Continue Reading झीणी झीणी चांदनी में ओल्यूं आवै रे भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

मेरा श्याम का मुखड़ा लगे चाँद का टुकड़ा भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

मेरा श्याम का मुखड़ालगे चाँद का टुकड़ानजर ना लगेमेरे श्याम को कहींमेरा श्याम का मुखडालगे चाँद का टुकड़ा।। फिल्मी तर्ज भजन : ये रेशमी जुल्फे। माथे मोर मुकुट टिकाचन्दन कासारे…

Continue Reading मेरा श्याम का मुखड़ा लगे चाँद का टुकड़ा भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

चांदी का रथड़ा में प्यारो लागे म्हारो सेठ सावरियो राजस्थानी भजन लिरिक्स

चांदी का रथड़ा में प्यारो,लागे म्हारो सेठ सावरियो,लागे म्हारो सेठ सावरियो रे,लागे म्हारो सेठ सावरियो।। गोकुल माही जन्मयों मंडपिया आयो,म्हारो सेठ सावरियो,चांदी का रथड़ा में प्यारों,लागे म्हारौ सेठ सावरियो।। झूलनी…

Continue Reading चांदी का रथड़ा में प्यारो लागे म्हारो सेठ सावरियो राजस्थानी भजन लिरिक्स

चाँदनी चौदश उज्याली कुलदेवी घरे आया रे

चाँदनी चौदश उज्याली,कुलदेवी घरे आया रे,कोई कुलदेवी घरे आया,म्हारे आँगन खुशिया लाया रे,झीनी झीनी मोतिडासु ,आंगनिया में ज्योत पुरासु ,दर्शन माने दीजो,चाँदनी चौदश उज्याली,नागणेशी घरे आया रे,नागणेशी घरे आया म्हारे,आँगन…

Continue Reading चाँदनी चौदश उज्याली कुलदेवी घरे आया रे

तेरी मस्ती में नच के मलंग हो गया चांदी चांदी करा दे हाथ तंग हो गया

तेरी मस्ती में नच के,मलंग हो गया,चांदी चांदी करा दे,हाथ तंग हो गया। लगे सोणा की तू ऐसा,जमाना दंग हो गया,तेरी मस्ती में नच के,मलंग हो गया,चांदी चांदी करा दे,हाथ…

Continue Reading तेरी मस्ती में नच के मलंग हो गया चांदी चांदी करा दे हाथ तंग हो गया

श्याम देखि जो सूरत तेरी हमारे घर चाँद निकला भजन फ़िल्मी तर्ज भजन लिरिक्स

श्याम देखि जो सूरत तेरी,हमारे घर चाँद निकला।। -तर्ज- – गली में आज चाँद निकला। श्लोक – ऐ फलक के चाँद,मैने भी एक चाँद देखा है,तुझमे तो दाग है लाखो,मेने…

Continue Reading श्याम देखि जो सूरत तेरी हमारे घर चाँद निकला भजन फ़िल्मी तर्ज भजन लिरिक्स

मेरे साजन का मुखड़ा है चाँद मैं आरती उतारूंगी लिरिक्स

मेरे साजन का मुखड़ा है चाँद,मैं आरती उतारूंगी,चंदा देखूंगी मन से पूजूंगी,करवा गाउंगी जल चढ़ाउंगी,मेरा साजन है मेरा भगवान,मैं आरती उतारूंगी।। जन्म जनम का रिश्ता मैं जोड़ूँ,साजन के हाथों व्रत…

Continue Reading मेरे साजन का मुखड़ा है चाँद मैं आरती उतारूंगी लिरिक्स