मुझे ओ सांवरे करुणा की गंगा में बहा लेना भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

मुझे ओ सांवरे करुणा की,गंगा में बहा लेना,मैं जब लूँ आखरी सांसे,मुझे खाटू बुला लेना,मुझे ओ साँवरे करुणा की,गंगा में बहा लेना।। बुझे जब दीप नेनो के,छवि इनमे तुम्हारी हो,ना…

Continue Reading मुझे ओ सांवरे करुणा की गंगा में बहा लेना भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

आरती गंगा मैया की कीजे राजस्थानी भजन लिरिक्स

आरती गंगा मैया की कीजे, दोहा – भवसागर से तार कर,करती मोक्ष प्रदान,भागीरथ तप से मिलीं,गंगा जी वरदान।माँ गंगा के स्नान से,कटते पाप तमाम,निशदिन करके आरती,उनको करें प्रणाम।गंगा गीता गाय…

Continue Reading आरती गंगा मैया की कीजे राजस्थानी भजन लिरिक्स

राम तेरी गंगा मैली हो गई हिंदी फिल्मी तर्ज भजन लिरिक्स

राम तेरी गंगा मैली हो गई, दोहा – तेरी धरोहर तेरी निशानी,लिए फिरूँ मैं बनी दीवानी,भुलाने वाले कभी तो आजा,की तेरी गंगा है पानी पानी,की तेरी गंगा है पानी पानी।।…

Continue Reading राम तेरी गंगा मैली हो गई हिंदी फिल्मी तर्ज भजन लिरिक्स

माँ नर्मदा तू है कलयुग की गंगा भजन लिरिक्स

माँ नर्मदा तू है,कलयुग की गंगा,दर्शन से तेरे,मन हो जाए चंगा,माँ नर्मदा हो,माँ नर्मदा हो,माँ नर्मदा तू हैं,कलयुग की गंगा,दर्शन से तेरे,मन हो जाए चंगा।। कलियुग में गंगा,माँ नर्मदा है,पतितों…

Continue Reading माँ नर्मदा तू है कलयुग की गंगा भजन लिरिक्स

मेरी नैया में लक्ष्मण राम ओ गंगा मैयाँ धीरे बहो भजन लिरिक्स

राम भजन मेरी नैया में लक्ष्मण राम ओ गंगा मैयाँ धीरे बहो भजन… मेरी नैया में लक्ष्मण राम,ओ गंगा मैयाँ धीरे बहो,गंगा मैयाँ हो गंगा मैयाँ, मेरी नैया मे चारों…

Continue Reading मेरी नैया में लक्ष्मण राम ओ गंगा मैयाँ धीरे बहो भजन लिरिक्स

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ ना मानो तो बहता पानी भजन लिरिक्स

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ,ना मानो तो बहता पानी,जो स्वर्ग ने दी धरती को,मैं हूँ प्यार की वही निशानी,मानो तो मै गंगा माँ हूँ,ना मानो तो बहता पानी।। युग…

Continue Reading मानो तो मैं गंगा माँ हूँ ना मानो तो बहता पानी भजन लिरिक्स

गंगा मैया में जब तक ये पानी रहे भजन लिरिक्स

मैया ओ गंगा मैया,ओ गंगा मैया में,गंगा मैया में जब तक ये पानी रहे,मेरे सजना तेरी जिंदगानी रहे,ज़िंदगानी रहे,मैया ओ गंगा मैया।। मेरे जीवन की ओ रे खिवैया,तेरे हाथों में…

Continue Reading गंगा मैया में जब तक ये पानी रहे भजन लिरिक्स

कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है भजन लिरिक्स

कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है,माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है,माता पिता को शरवण आँखे दिखा रहा है।। पहले था एक रावण और एक ही थी…

Continue Reading कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है भजन लिरिक्स