Skip to content

क़ानून Qanoon Lyrics In Hindi– Satinder Sartaaj

  • by
0 4703

collection of Punjabi songs lyrics.

Qanoon Song Lyrics Description From Album- Satinder Sartaaj

Lyrics Title: Qanoon
Singers: Satinder Sartaaj
Lyrics: Satinder Sartaaj
Music: Beat Minister
Music Company: Saga Music.

क़ानून Qanoon Song Lyrics In Hindi:

मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

बहुत से ऐसे वाक्यात जो
जो पहली बार ही होते हैं
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पहली बार ही होते हैं

बहुत से ऐसे वाक्यात जो
जो पहली बार ही होते हैं
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पहली बार ही होते हैं

उनमें गलत सही अब कैसे
साबित करे हवालो से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

खेल ज़िन्दगी के न
जीते गए कभी चालाकी से
न ही ज्यादा काम डिलियों से
और न ही बेबाकी से

खेल ज़िन्दगी के न
जीते गए कभी चालाकी से
न ही ज्यादा काम डिलियों से
और न ही बेबाकी से

ये बाज़ी पेचीदा है
शायद शतरंज की चालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

यूँ तो चाहे खूब रिसले चापो
और मज़मून लिखो
हल्ला करके अख़बारों से
चाहे फिर क़ानून लिखो

यूँ तो चाहे खूब रिसले चापो
और मज़मून लिखो
हल्ला करके अख़बारों से
चाहे फिर क़ानून लिखो

हल तो आखिर निकलेंगे
बुनयादी असल सवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

वैसे तो अगर सोचें तो
सब कागज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत है महदूद क्योंकि
मुंसिफ भी इंसान ही है

वैसे तो अगर सोचें तो
सब कागज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत है महदूद क्योंकि
मुंसिफ भी इंसान ही है

खून टपकता देखा है
इन्साफ के बुत्त की गालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

पलक झपकते दुनिया बदले
ऐसा हुआ न होगा भी
ज़िम्मेदार बराबर के है
सदर भी और दरोगा भी

पलक झपकते दुनिया बदले
ऐसा हुआ न होगा भी
ज़िम्मेदार बराबर के है
सदर भी और दरोगा भी

ज़रा ज़रा से फर्क पड़ेंगे
इन् सरताज ख्यालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगडे ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

Other Song Lyrics

Official Music Video of Qanoon:

Leave a Reply

Your email address will not be published.