हे शिव शंकर डमरुधारी गंगाधारी हे त्रिपुरारी भजन लिरिक्स

शिवजी भजन हे शिव शंकर डमरुधारी गंगाधारी हे त्रिपुरारी भजन लिरिक्स

हे शिव शंकर डमरुधारी,
गंगाधारी हे त्रिपुरारी,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

तन भस्मी और सर्प की माला,
अद्भुत शिव का रूप निराला,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

बाघम्बर तव तन पे विराजे,
माथे पर है चंदा साजे,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

कानन में बिच्छू के कुण्डल,
हाथ त्रिशूल और डमरू कमंडल,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

जय शंकर जय त्रिनेत्र धारी,
भक्त जनो की विपदा टारि,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

नंदी पर असवार जो आते,
सबके दुखड़े आप मिटाते,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

गणपति गौरा संग विराजे,
कार्तिक नंदी संग में साजे,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

है कैलाश पे तुम्हरा वासा,
पूरण करते सबकी आशा,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

बारह ज्योतिर्लिंग तुम्हारे,
कलियुग में है सांचे सहारे,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

सोमनाथ जय मल्लिकार्जुन,
महाकालेश्वर ओम्कारेश्वर,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

ऊँचे पर्वत केदारनाथा,
भीमाशंकर दीनानाथा,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

विश्वनाथ की महिमा भारी,
त्रयंभकेश्वर दर्शन सुखकारी,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

वैद्यनाथ धाम स्वर्ग से पावन,
नागेश्वर है अतिमनभावन,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

रामेश्वर दक्षिण में साजे,
घृणेश्वर डमरू ध्वनि बाजे,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

इनका दर्शन जिसने पाया,
शिव शंकर ने पार लगाया,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

हे शिव शंकर डमरुधारी,
गंगाधारी हे त्रिपुरारी,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय बोलो,
ॐ नमः शिवाय।।

Leave a Reply