Skip to content

हारा मैं जब जब भी साथ निभाया भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2595

हारा मैं जब जब भी
साथ निभाया
हर मुश्किल में
दौड़ा चला आया
खाटू जाऊं तेरी
हर ग्यारस पर
शुक्रिया मेरे श्याम
मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

जब भी प्रेमी तेरा
भटक गया था
मुश्किल में वो
अटक गया था
तूने दिखाई उसे
राह ओ बाबा मेरे
लीले वाले श्याम
मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

जो भी शरण तेरी
हार के आता
खाली झोली
भर ले जाता
साथ तू उसके चल
पड़ता है खाटू वाले
मुरली वाले श्याम
मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

प्रेमी जब तेरे दर पे
ढोक लगाता
मुसीबत सबकी
दूर भगाता
कष्टों को उसके
हर लेता है खाटू वाले
प्रेमियों के बाबा श्याम
मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

हिमांशु को तूने
इतना दिया है
परिवार में अपने
जोड़ लिया है
दूर ना करना उसे
चरणों से बाबा मेरे

मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

हारा मैं जब जब भी
साथ निभाया
हर मुश्किल में
दौड़ा चला आया
खाटू जाऊं तेरी
हर ग्यारस पर
शुक्रिया मेरे श्याम
मेरे खाटू वाले
ओ मेरे बाबा श्याम
मेरे मुरली वाले
ओ मेरे बाबा श्याम।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.