हर ग्यारस पे मुझको मेरे श्याम बुलाते है लिरिक्स

हर ग्यारस पे मुझको,
मेरे श्याम बुलाते है,
वो हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है,
हर ग्यारस पे मुझको,
मेरे श्याम बुलाते है,
वों हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है।।

जिसकी खातिर दुनिया,
दिन रात तरसती है,
वह अमृत की बरखा,
हर रोज बरसती है,
वो रहमत के प्याले,
भर भर के पिलाते है,
वों हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है।।

मुझे ठोकर लगते ही,
वो व्याकुल हो जाए,
कुछ काम करे ऐसा,
होठो पे हंसी आए,
वो मेरे मन की बाते,
पहचान जाते है,
वों हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है।।

दिलदार दयालु है,
एक पल में पिघल जाए,
एक बार नजर डाले,
किस्मत ही बदल जाए,
हे ‘पाल’ तेरी कश्ती,
वो पार लगाते है,
वों हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है।।

वो हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है,
हर ग्यारस पे मुझकों,
श्याम बुलाते है,
वों हाथ पकड़ मेरा,
खाटू ले जाते है।।

Singer – Vishal Mittal
एकादशी भजन हर ग्यारस पे मुझको मेरे श्याम बुलाते है लिरिक्स
हर ग्यारस पे मुझको मेरे श्याम बुलाते है लिरिक्स

Leave a Reply