हम कई जाणा सिपाही संत सिंगाजी भजन लिरिक्स

हम कई जाणा सिपाही संत,
कई जाणा सिपाही संत,
वो निकल्या बड़ा गुणवंत,
कई जाणा सिपाही संत।।

कोई कहे भाई युक्ति जाणे,
मार दिया कोई मंत्र,
कई जाणा सिपाही संत,
हम कईं जाणा सिपाही संत।।

कोई कहे ये ध्यान करत है,
बैठ्यो है कोई संत,
कई जाणा सिपाही संत,
हम कईं जाणा सिपाही संत।।

नगर मेटावल कहे राणा से,
तम सिखलीजो कोई मंत्र,
कई जाणा सिपाही संत,
हम कईं जाणा सिपाही संत।।

हम कई जाणा सिपाही संत,
कई जाणा सिपाही संत,
वो निकल्या बड़ा गुणवंत,
कई जाणा सिपाही संत।।

Leave a Reply