Skip to content

सोऐ को सँत जगाऐ फिर नीँद न उसको आऐ

fb-site

गुरुदेव भजन सोऐ को सँत जगाऐ फिर नीँद न उसको आऐ
तर्ज – चिन्गारी कोई भड़के।

सोऐ को सँत जगाऐ,
फिर नीँद न उसको आऐ,
जो जाग के फिर सो जाऐ,
उसे कोन जगाऐ,
हो उसे कोन जगाऐ।।

मर मर कर हम जीते थे,
जी जी कर अब मरते है,
क्या बात है ओ मेरे मनवा,
हरि को नही क्यो भजते है,
मौका है जो सँभल जाऐ,
तो नैया ये तर जाऐ,
जो जाग के फिर सो जाऐ,
उसे कोन जगाऐ,
हो उसे कोन जगाऐ।।

इतना क्यो इतराता है,
पाकर यह सुन्दर काया,
यह सोच जरा ओ मनवा,
जग मे तुझे कोन है लाया,
हरि रूठे तो मनजाए,
गुरू रूठे ठौर न पाए,
जो जाग के फिर सो जाऐ,
उसे कोन जगाऐ,
हो उसे कोन जगाऐ।।

आजा तू गुरू चरणो मे,
करदे तन मन सब अर्पण,
फिर बैठ के तू सतगुरू का,
मन से करले जो सुमिरन,
चिँतन मे जो खो जाए,
तो गुरू की दया हो जाए,
जो जाग के फिर सो जाऐ,
उसे कोन जगाऐ,
हो उसे कोन जगाऐ।।

सोऐ को सँत जगाऐ,
फिर नीँद न उसको आऐ,
जो जाग के फिर सो जाऐ,
उसे कोन जगाऐ,
हो उसे कोन जगाऐ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.