Skip to content

सिया राम जी का डंका लंका में बजवा दिया बजरंग बाला ने

  • by
0 1431

सिया राम जी का डंका लंका में,
बजवा दिया बजरंग बाला ने,
बजवा दिया बजरंग बाला ने,
वो माँ अंजनी के लाला ने,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

सूती मंडोतरी सपनो आयो,
सपनो विस्वा विस रे
कूदता देखिया रीछ बानरा ने,
कटता देखिया सीस रे,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

केवे मंदोतरी सुन पिया रावण,
आ कई कुबुद्ध कमाई रे,
तीन लोक री सीता माँ जानकी,
ज्याने तू हर लाइ रे,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

मेघनाथ सा पुत्र हमारे,
कुम्भकरण सा भाई रे,
लंका सरीका कोट हमारे,
साथ समुद्र आडी खाई रे,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

हनुमान सा पायक उनके,
लक्ष्मण जैसा भाई रे,
जलती अग्न में कूद पड़े वो,
कोट गिने ना खाई रे,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

रावण मार राम घरे आये,
घर घर बटत बधाई रे,
सुनीजन मुनिजन आरती उतारे,
तुलसीदास जस गाई जी,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

सिया राम जी का डंका लंका में,
बजवा दिया बजरंग बाला ने,
बजवा दिया बजरंग बाला ने,
वो माँ अंजनी के लाला ने,
सिया राम जी का डंका लंका मे,
बजवा दिया बजरंग बाला ने।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.