Skip to content

सावन की ऋतू झूलों की बहार है भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2130

सावन की ऋतू,
झूलों की बहार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

वृन्दावन की कुंजे सज गई,
बरसाने में पता ये चल गई,
बरसाने में पता ये चल गई,
नन्द गाँव से आए,
नन्द कुमार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

राधा संग विशाखा आई,
संग में सखी सहेली आई,
संग में सखी सहेली आई,
करके आई ये,
सोलह श्रृंगार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

वृक्ष कदम्ब पे झूला डारयो,
श्याम जू को लग्यो है प्यारो,
श्याम जू को लग्यो है प्यारो,
हौले झोटा देवे,
नन्द कुमार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

तनुज के मन को भावे सावन,
प्रेम सुधा सुखरस सा पावन,
प्रेम सुधा सुखरस सा पावन,
कृष्ण पल्लवी को भी,
इनसे प्यार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

सावन की ऋतू,
झूलों की बहार है,
रिमझिम रिमझिम,
पड़ने लगी फुहार है,
सावन की ऋतु,
झूलों की बहार है।।

More bhajans Songs Lyrics IN HINDI

Leave a Reply

Your email address will not be published.