सात समंदर कूद फांद के लंका नगरी आ गए भजन लिरिक्स

भजन सात समंदर कूद फांद के लंका नगरी आ गए भजन लिरिक्स
गायक – मुकेश कुमार जी।
तर्ज – सात समंदर पार मैं तेरे।

सात समंदर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए,
देखो लंका नगरी आ गए,
ऐसा किया बवाल,
ऐसा किया बवाल,
देख लंकावासी घबरा गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

लंकापुर पहुंचे हनुमत जी,
किया प्रभु का ध्यान,
मात सिया को खोजे पवनसुत,
लंका में अनजान,
असुरों संग बैठी,
असुरों संग बैठी मेरी माँ,
ये देख क्रोध में आ गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

राम निशानी लिए पवनसुत,
पहुंचे माँ के पास,
देख निशानी जनकनन्दिनी,
व्याकुल भई उदास,
हनुमत मेरे प्राण,
हनुमत मेरे प्राणनाथ को,
छोड़ कहाँ तुम आ गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

भूख लगी ले आज्ञा पवनसुत,
चले बगिया की ओर,
तोड़ तोड़ फल खाने लगे और,
फेंके चारों ओर,
देख तबाही,
देख तबाही बगिया की,
रावण के सैनिक आ गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

बनाके बंदी रावण सन्मुख,
खूब किया अपमान,
सहन हुआ नही रावण से,
लगवा दी पूंछ में आग,
क्रोधित बजरंगी,
क्रोधित बजरंगी लंका में,
आग लगाके आ गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

सात समंदर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए,
देखो लंका नगरी आ गए,
ऐसा किया बवाल,
ऐसा किया बवाल,
देख लंकावासी घबरा गए,
सात समुन्दर कूद फांद के,
लंका नगरी आ गए।।

Leave a Reply