Skip to content

सवरती है तक़दीर खाटू धाम जाने से भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

  • by
0 104

टूटी लकीरे भी हो हाथों में
तो सवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से
तो संवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से।।

फिल्मी तर्ज भजन: चूड़ी जो खनकी।

डगमग डगमग नैया डोले
माझी बनकर श्याम चले
भव से पार हो नैया जो
बाबा श्याम खिवैया हो
बिगड़ी हो किस्मत भी कभी
बिगड़ी हो किस्मत भी कभी
तो बनती है तकदीर
फागुण मेले में जाने से
तो संवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से।।

हारे का तू सहारा है
तेरे बिन कौन हमारा है
हर संकट से बाबा तूने
हम भक्तों को उबारा है
महिमा ऐसी नाम की
महिमा ऐसी नाम की
तो बनती है तकदीर
ग्यारस पे खाटू जाने से
तो संवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से।।

टूटी लकीरे भी हो हाथों में
तो सवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से
तो संवरती है तक़दीर
खाटू धाम जाने से।।

Singer : Megha Parsai

Leave a Reply

Your email address will not be published.