Skip to content

सजने का हैं शौकीन कोई कसर ना रह जाए भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 1752

सजने का हैं शौकीन,
कोई कसर ना रह जाए,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

जब सांवरा सजता हैं,
सारी दुनिया सजती हैं,
उसे इत्र छिड़कते हैं,
सारी दुनिया महकती हैं,
बागो का हर एक फूल,
गजरे में लग जाये,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

जब कान्हा मुस्काये,
शीशा भी चटक जाये,
चंदा भी दर्शन को,
धरती पे उतर जाये,
सूरज की किरणों से,
दरबार चमक जाये,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

क्या उसको सजाओगे,
जो सबको सजाता हैं,
क्या उसको खिलाओगे,
जो सबको खिलाता हैं,
बस भाव के सागर में,
मेरा श्याम डूब जाए,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

बस इतना ध्यान रखना,
इतना ना सज जाए,
इस सारी श्रष्टि की,
उसे नजर ना लग जाये,
ये शुभम रूपम तेरे,
भावों के भजन गाये,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

सजने का हैं शौकीन,
कोई कसर ना रह जाए,
ऐसा कर दो श्रृंगार,
सब देखते रह जाए,
सजने का हैं शौकीन।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.