शेरावाली तेरी चुनरिया लाई गोटेदार तेरे दरबार माँ

दुर्गा माँ भजन शेरावाली तेरी चुनरिया लाई गोटेदार तेरे दरबार माँ
गायिका- रजनी आनंद

शेरावाली तेरी चुनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ,
लाई तेरे दरबार माँ,
लाई तेरे दरबार माँ,
मेरी मनसा पूरी कर माँ,
मेरी मनसा पूरी कर माँ,
तेरा करूँ आभार तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ।।

कितने तार दिए तूमने,
कितने तार रहीं हों माँ,
कितने तार दिए तूमने,
कितने तार रहीं हों माँ,
अपने भगतो कि खातिर दुष्ट मार रहीं हों माँ,
अपने भगतो कि खातिर दुष्ट मार रहीं हों माँ,
हमपर दया करों हे जननी,
हमपर दया करों हे जननी,
लाई तेरा श्रृंगार तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ।।

ऊँचे पर्वत चड़ चड़ के पाँव हार रहें हैं माँ,
ऊँचे पर्वत चड़ चड़ के पाँव हार रहें हैं माँ,
धूप कभी बारिश हो जा मोसम मार रहे हैं माँ,
धूप कभी बारिश हो जा मोसम मार रहे हैं माँ,
बड़े जतन करके आईं हूँ,
बड़े जतन करके आईं हूँ,
पाने तेरा दीदार तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ।।

तेरी माया तू जाने मैं तो बस इतना जानू,
तेरी माया तू जाने मैं तो बस इतना जानू,
तू मेरे कुल की देवी मैं तो बस तूझको मानू,
तू मेरे कुल की देवी मैं तो बस तूझको मानू,
‘दत्ता’ की तूम बाह पकड़ लो,
‘दत्ता’ की तूम बाह पकड़ लो,
करों मेरा उद्धार तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ।।

शेरावाली तेरी चुनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ,
लाई तेरे दरबार माँ,
लाई तेरे दरबार माँ,
मेरी मनसा पूरी कर माँ,
मेरी मनसा पूरी कर माँ,
तेरा करूँ आभार तेरे दरबार माँ,
शेरावाली तेरी चूनरिया लाई गोटेदार,
तेरे दरबार माँ।।

Leave a Reply