Skip to content

शेरावाली तू मैया तू जग की रचैया भजन लिरिक्स

  • by
0 796

दुर्गा माँ भजन शेरावाली तू मैया तू जग की रचैया भजन लिरिक्स
तर्ज – मेरी प्यारी बहनिया।

शेरावाली तू मैया,
तू जग की रचैया,
हमने जब भी है,
तुमको पुकारा,
भव सागर से,
तूने है तारा,
भव सागर से,
तूने है तारा।।

पर्वतों में युगों से है,
ज्योत तेरी जलती,
चरणों को है धोती हुई,
गंगा भी है बहती,
राजा हो चाहे कोई,
रंक हो मैया,
पाया तुमसे ही,
सबने सहारा,
भव सागर से,
तूने है तारा,
भव सागर से,
तूने है तारा।।

रोज ही करोड़ो,
यहाँ आते है सवाली,
सबकी तुम्ही तो मैया,
करती हो रखवाली,
सबके ही कांटो को,
कलियाँ बनाता,
तेरा माँ बस,
एक ही इशारा,
भव सागर से,
तूने है तारा,
भव सागर से,
तूने है तारा।।

जिनके सिरों पे तेरी,
ममता का हाथ माँ,
दुनिया में चलते वो,
गर्व के साथ माँ,
झुटे जहां के तो,
दिलासे भी झुटे,
एक सच्चा है,
प्यार तुम्हारा,
भव सागर से,
तूने है तारा,
भव सागर से,
तूने है तारा।।

शेरावाली तू मैया,
तू जग की रचैया,
हमने जब भी है,
तुमको पुकारा,
भव सागर से,
तूने है तारा,
भव सागर से,
तूने है तारा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.