शनि देवा पधारो मेरे घर आना शनिदेव भजन लिरिक्स

शनि देवा पधारो मेरे घर आना,
शनि देवा करूँ सेवा,
शनि देवा जी भगतो की लाज रखना।।

सूरज पिता है तेरी माता छाया,
सब से निराले स्वामी शाम वर्ण पाया,
माया न्यारी तेरी सब प्यारे तेरे,
नाये करता समउ इक विनती मेरी,
जो चरणों में आये उसकी पीड़ हरना,
शनि देवा करूँ सेवा,
शनि देवा जी भगतो की लाज रखना।।

सब की है एक तेरी नो नो सवारी,
सारे जहां में बस तुम न्यायकारी,
‘रश्मी’ गाती रहे तुमको ध्याति रहे,
तेरे चरणों में सर को झुकाती रहे,
आके सिर पे ‘बिसारिया’ के हाथ रखना,
शनि देवा करूँ सेवा,
शनि देवा जी भगतो की लाज रखना।।

शनि देवा पधारो मेरे घर आना,
शनि देवा करूँ सेवा,
शनि देवा जी भगतो की लाज रखना।।

Leave a Reply