Skip to content

लखन मोसे बोले ना आंसुओ की लग रही धार भजन लिरिक्स

  • by
0 73

राम भजन लखन मोसे बोले ना आंसुओ की लग रही धार भजन लिरिक्स

आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोले ना,
बोले ना रे भैया बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

उठा के लखन को गोदी में रखलए,
गोदी में रखलए हाँ,
गोदी में रखलए,
तेरे कहां पे लगो हैं बाण,
लखन मोसे बोलें ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

हनुमंत जी लंका को जइयो,
वहां से वैध सुषेण को लईयो,
मेरे भैया की नवज बतइओ,
की लाल मेरो बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

हनुमंत जी द्रोणागिरी जईओ,
वहां से संजीवनी बूटी लईओ,
मेरे भैया को घोंट के पिलईओ,
की लाल मेरो बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोले ना,
बोले ना रे भैया बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.