Skip to content

मेरे खाटू वाले श्याम की कृपा से हर बिगड़ा काम संवरता है

  • by
0 2306

मेरे खाटू वाले श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है,
मैं खाली हाथ ही जाता हूँ,
वो झोलियाँ भर भर देता है,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

क्या कहने मेरे बाबा के,
हारे के सहारे बन गए,
मैंने जो भी माँगा था इनसे,
मेरी झोलियाँ भरते चले गए,
अब दिल में मेरे रहते है,
बस हर दम कहता रहता हूँ,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

जबसे देखा मुखड़ा तेरा,
मैं दुनियादारी भूल गया,
जब भी मुश्किल में पड़ता हूँ,
बाबा तुमने मेरा साथ दिया,
अब क्या कहने मेरे बाबा के,
ये जी सीना तान के कहते हैं,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

तुझे ना देखूं तो बाबाजी,
मुझको तो चैन ना आता है,
तेरी एक झलक से ही बाबा,
मेरा सारा दिन बन जाता है,
मैं खुशकिस्मत हूँ बाबाजी,
जो मैंने तुझको पाया है,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

एक बार तो तुम भी हो आना,
फिर होके मुझको बतलाना,
बदलेगी तेरी किस्मत भी,
फिर तुम भी सबको कहलाना,
ये पल में झोलियाँ भरते है,
मेरे श्याम धनी दिलवाले है,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

मेरे खाटू वाले श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है,
मैं खाली हाथ ही जाता हूँ,
वो झोलियाँ भर भर देता है,
मेरे खाटू वालें श्याम की कृपा से,
हर बिगड़ा काम संवरता है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.