Skip to content

मन बस गयो नन्द किशोर बसा लो वृन्दावन में भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

  • by
0 88

मन बस गयो नन्द किशोर
अब जाना नहीं कही और
बसा लो वृन्दावन में
बसा लो वृन्दावन में।।

सौप दिया अब जीवन तोहे
रखो जिस विधि रखना मोहे
तेरे दर पे पड़ी हूँ सब छोड़
अब जाना नहीं कही और
बसा लो वृन्दावन में
बसा लो वृन्दावन में।।

चाकर बन कर सेवा करुँगी
मधुकरि मांग कलेवा करुँगी
तेरे दरश करुँगी उठ भोर
अब जाना नहीं कही और
बसा लो वृन्दावन में
बसा लो वृन्दावन में।।

अरज़ मेरी मंजूर ये करना
वृन्दावन से दूर ना करना
कहे मधुप हरी जी हाथ जोड़
अब जाना नहीं कही और
बसा लो वृन्दावन में
बसा लो वृन्दावन में।।

मन बस गयो नन्द किशोर
अब जाना नहीं कही और
बसा लो वृन्दावन में
बसा लो वृन्दावन में।।

Singer/स्वर- देवी चित्रलेखा जी।

More bhajans Songs Lyrics IN HINDI

कृष्ण भजन लिरिक्स Krishna Bhajan Lyrics

  1. जुग जुग जीवे री यशोदा मैया तेरो ललना भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  2. कॄपा दृष्टि भगवन दिखानी पड़ेगी भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  3. श्याम क्यों मुझसे खफा है भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  4. ऐसो चटक मटक सो ठाकुर तीनों लोकन में हूँ नाय घनश्याम भजन लिरिक्स
  5. srikrishna krishna bhajan lyrics hindi fonts
  6. वो कभी ना हारे जिसने किया विश्वास भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.