Skip to content

मनमोहनी है छवि ये तुम्हारी भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

0 1731

मनमोहनी है छवि ये तुम्हारी,
हटती नहीं है बाबा नजरें हमारी।।

सिर पे मुकुट और कानों में कुंडल,
माथे पे हीरा आंखें ये चंचल,
अधरों पे लगती मुरली है प्यारी,
मनमोहनी हैं छवि ये तुम्हारी,
हटती नहीं है बाबा नजरें हमारी।।

पुष्पों की माला से बागा सजा है,
उस पे सुगंधित इत्र लगा है,
महक रहे हो श्याम बिहारी,
मनमोहनी हैं छवि ये तुम्हारी,
हटती नहीं है बाबा नजरें हमारी।।

दरबार तेरे जो दर्शन को आए,
भक्त जो देखे तुझे देखता ही जाए,
आकाश गूंजे जय कार थारी,
मनमोहनी हैं छवि ये तुम्हारी,
हटती नहीं है बाबा नजरें हमारी।।

मनमोहनी है छवि ये तुम्हारी,
हटती नहीं है बाबा नजरें हमारी।।

1 thought on “मनमोहनी है छवि ये तुम्हारी भजन कृष्ण भजन लिरिक्स”

  1. Pingback: कितनो का माझी है ये कितनो के जीने का सहारा कृष्ण भजन लिरिक्स - Fb-site.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.