मंदिर जाती मीरा ने सांवरियो मिल गयो रे भजन लिरिक्स

जादू कर गयो जादू कर गयो रे,
जादू कर गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
मंदिर जाती मीरा ने,
सांवरियो मिल गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

राणो मीरा से बतलावे,
के हो ग्यो थारे क्यों ना बतावे,
फीका पड़ गया नैन फरक,
बोली में पड़ गयो रे,
मोहन ताहि जादू कर गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

आज मिल्यो म्हाने बनवारी,
पल पल जाऊ मैं बलिहारी,
चुरा लिया म्हारा नैंण के दिल पे,
तालो जड़ गयो री,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

राणो मीरा ने समझावे,
बड़ा घरा की रीत बतावे,
पुलके लगा दियो दाग पति,
जीवतड़ो मर गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

मनमोहन है पति हमारो,
सारे जग को है रखवारो,
कहता ‘राधेश्याम’ मीरा ने,
मोहन मिल गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

जादू कर गयो जादू कर गयो रे,
जादू कर गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
मंदिर जाती मीरा ने,
सांवरियो मिल गयो रे,
मोहन काई जादू कर गयो रे,
श्याम काई जादू कर गयो रे।।

Leave a Reply