Skip to content

बालाजी मेहन्दीपुर है सुहाना भजन फ़िल्मी तर्ज भजन

  • by
fb-site

बालाजी मेहन्दीपुर है सुहाना,
वहाँ मिलता क्या है यह भक्तोँ ने जाना॥
बालाजी …….. वहाँ मिलता ……..

-तर्ज- – जिन्दगी एक सफर है सुहाना

बालाजी मेहन्दीपुर है सुहाना,
वहाँ मिलता क्या है यह भक्तोँ ने जाना॥
बालाजी …….. वहाँ मिलता ……..

चलते जाओ बाबा के नगर,
दुखड़ोँ की तू परवाह न कर,
मुस्कराते हुए तुम घर को आना॥१॥
वहाँ मिलता …….. बालाजी ……..

मन्दिर की है शोभा बड़ी प्यारी,
लाखोँ आते हैँ दर पे नर–नारी,
चरणोँ मेँ झुकता सारा जमाना॥२॥
वहाँ मिलता …….. बालाजी ……..

रहता है भण्डार बाबा का खुला,
जिसने भी मांगा उसको ही मिला,
तुम भी झोली अपनी फैलाना॥३॥
वहाँ मिलता …….. बालाजी ……..

दु:खड़े अपने हनुमत को सुनाना,
भेँट आँसूओँ की चरणोँ मेँ चढ़ाना,
गीत भी ‘खेदड़’ के बाबा को सुनाना॥४॥
वहाँ मिलता …….. बालाजी ……..

बालाजी मेहन्दीपुर है सुहाना,
वहाँ मिलता क्या है यह भक्तोँ ने जाना॥
बालाजी …….. वहाँ मिलता ……..

More bhajans Songs Lyrics IN HINDI

Leave a Reply

Your email address will not be published.