Skip to content

बाबा ओ श्याम बाबा शान जितनी भी जग में हमारी रहे फ़िल्मी तर्ज भजन लिरिक्स

  • by
0 794

बाबा ओ श्याम बाबा,
शान जितनी भी,
जग में हमारी रहे,
तेरे दर के सदा,
हम भिखारी रहे,
भिखारी रहें,
बाबा ओं श्याम बाबा,
बाबा ओं श्याम बाबा।।

-तर्ज- – गंगा मैया में जबतक।

कभी भूलें ना हम वो ज़माना,
जब कहीं ना मिला था ठिकाना,
आये दर पे तेरे,
काटे संकट मेरे,
जिंदगी भर तुम्हारे,
आभारी रहें,
आभारी रहें,
बाबा ओं श्याम बाबा,
बाबा ओं श्याम बाबा।।

चाहे कितनी भी हो जाए माया,
ये ना समझें की हमनें कमाया,
यही सोचे सदा,
है तेरा ही दिया,
है अमानत तुम्हारी तुम्हारी रहें,
तुम्हारी रहे,
तुम्हारी रहे,
बाबा ओं श्याम बाबा,
बाबा ओं श्याम बाबा।।

चाहे अपने हो चाहे पराये,
कभी दिल ना किसी का दुखाए,
अच्छी करनी करे,
और बदी से डरे,
भावना ‘सोनू’ ऐसी हमारी रहें,
हमारी रहे,
हमारी रहे,
बाबा ओं श्याम बाबा,
बाबा ओं श्याम बाबा।।

बाबा ओ श्याम बाबा,
शान जितनी भी,
जग में हमारी रहे,
तेरे दर के सदा,
हम भिखारी रहे,
भिखारी रहें,
बाबा ओं श्याम बाबा,
बाबा ओं श्याम बाबा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.