Skip to content

बरसो से छुपी जो इस दिल में वो बात मुझे भी कहने दो कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2022

बरसो से छुपी जो इस दिल में,
वो बात मुझे भी कहने दो,
सब देख लिए सुख दुनिया के,
अब चरणों की छाँव में रहने दो,
बरसों से छुपी जो इस दिल में।।

डूब रहा था भव सागर में,
हाथ पकड़ के तुमने बचाया,
अब श्याम नाम की गंगा में,
मन बहता है तो बहने दो,
सब देख लिए सुख दुनिया के,
अब चरणों की छाँव में रहने दो,
बरसों से छुपी जो इस दिल में।।

सपनों में जो घर थे बनाए,
आँख खुली तो कुछ भी नहीं था,
ऐसे महलों का क्या मतलब,
ये ढहते है तो ढहने दो,
सब देख लिए सुख दुनिया के,
अब चरणों की छाँव में रहने दो,
बरसों से छुपी जो इस दिल में।।

हाथ छुड़ाकर दूर गए जो,
अब उनसे उम्मीद करूँ क्या,
पग पग मेरे जो साथ रहा,
उस श्याम की बाहें गहने दो,
सब देख लिए सुख दुनिया के,
अब चरणों की छाँव में रहने दो,
बरसों से छुपी जो इस दिल में।।

बरसो से छुपी जो इस दिल में,
वो बात मुझे भी कहने दो,
सब देख लिए सुख दुनिया के,
अब चरणों की छाँव में रहने दो,
बरसों से छुपी जो इस दिल में।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.