Skip to content

फागणियो निड़े आयो सा ओ साँवरा भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 1121

फागणियो निड़े आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

जगमग ज्योत जगाई जी सांवरिया,
कीर्तन में आज पधारो सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

रतन सिंघासन बैठो जी सांवरिया,
भगता ने दरश दिखाओ सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

फूला को गजरो ल्याया जी सांवरिया,
म्हारो गजरो पैर दिखाओ,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

जादू भरी है श्याम थारी रे मुरलिया,
मीठी सी तान सुनाओ सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

छप्पन भोग बणायो जी सांवरिया,
थे रुच रुच भोग लगाओ सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

फागण की रुत रंग रंगीली,
होली में में रंग जमाओ सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

मिनख जमारो था बिन एडो,
म्हारो जीवन सफल बनाओ सा,
ओ साँवरा,
फागणियो निडे आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

फागणियो निड़े आयो सा,
ओ साँवरा,
म्हारे मन में हेत समायो सा,
ओ साँवरा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.