फसी भंवर में थी मेरी नैया चलाई तूने तो चल पड़ी है घनश्याम भजन लिरिक्स

फसी भंवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है
पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत
पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत
वो मौज करने निकल पड़ी है
फसी भवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है।।

भरोसा था मुझको मेरे बाबा
यकीन था तेरी रहमतों पे
था बैठा चोखट पे तेरी कब से
था बैठा चोखट पे तेरी कब से
निगाहें निर्धन पे अब पड़ी है
फसी भवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है।।

सजाऊँ तुझको निहारूँ तुझको
पखारूँ चरणों को मैं श्याम तेरे
मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा
मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा
ये भावनाएं मचल पड़ी है
फसी भवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है।।

हँसे या कुछ भी कहे जमान
जो रूठे तो कोई गम नही है
वो मगर जो रूठा तू लहरी मुझसे
वो मगर जो रूठा तू लहरी मुझसे
बहेगी अश्को की ये झड़ी है
फसी भवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है।।

फसी भंवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है
पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत
पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत
वो मौज करने निकल पड़ी है
फसी भवर में थी मेरी नैया
चलाई तूने तो चल पड़ी है।।

Singer/स्वर- उमा लहरी जी।

  1. बाबा मुझे ये तो बता कोई इतना भी देता है क्या भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  2. राधा का चितचोर कन्हैया भा गया हमें भा गया घनश्याम भजन लिरिक्स
  3. आजा अब तो सांवरे मन कहीं भी ना लागे भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  4. हे गिरधर गोपाल लाल तू आजा मोरे आँगना भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  5. श्याम को दरबार यो तो दीना को ठिकानो है भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  6. सुनलो मेरे सांवरे भैया आगे करो कलाई राखी भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  7. दिल ये मेरा सांवरे अब तेरा हो गया भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

Leave a Reply