Skip to content

नटखट ललना झूल रहा पलना कृष्ण भजन घनश्याम भजन लिरिक्स

  • by
0 99

नटखट ललना झूल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

आयी भादों महीने की
रात अंधियारी
जनम लियो कृष्णा रे
यशोदा के अंगना रे
नटखट ललना झुल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

रात है जनम अष्टमी वाली
नाच मेरी बहना रे
यशोदा के अंगना रे
नटखट ललना झुल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

दर्शन को आए शिव कैलाशी
मिट गई तृष्णा रे
यशोदा के अंगना रे
नटखट ललना झुल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

भीड़ लगी है नन्द के द्वारे
देने बधईया रे
यशोदा के अंगना रे
नटखट ललना झुल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

सज गई सारी गोकुल नगरी
बाजे चूड़ी कंगना रे
यशोदा के अंगना रे
नटखट ललना झुल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

नटखट ललना झूल रहा पलना
यशोदा के अंगना रे
खेल रहा ललना रे।।

Singer : Moksh Gulati

  1. वो कभी ना हारे जिसने किया विश्वास भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  2. सारी दुनिया में गूँजे थारो नाम ओ खाटू वाला श्याम जी घनश्याम भजन लिरिक्स
  3. फसी भंवर में थी मेरी नैया चलाई तूने तो चल पड़ी है घनश्याम भजन लिरिक्स
  4. मैं आता रहूं दरबार सांवरे भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  5. चाहे खुशी हो गम हो मुझे सांवरा नजर आए भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  6. साथी हारे का तू मुझको भी जिताने आजा भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  7. मोहिनी मूरत प्यारी रंगीलो मेरो बनवारी भजन घनश्याम भजन लिरिक्स
  8. आकर देखो श्याम के दर पर क्या करतब दिखलाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.