Skip to content

दरबार हजारो है तुझ सा दरबार कहाँ भजन लिरिक्स

0 1898

भजन दरबार हजारो है तुझ सा दरबार कहाँ भजन लिरिक्स
Singer : Mukesh Bagda
तर्ज – ऐ मेरे दिल ए नादाँ।

दरबार हजारो है,
तुझ सा दरबार कहाँ,
बजरंग सा देव भला,
हमें मिलता और कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

तेरे हाथ में घोटा है,
और लाल लंगोटा है,
सिंदूरी रूप धरे,
सिंघासन बैठा है,
तेरी महिमा का बाबा,
कोई पावे पार कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

तेरी लाल ध्वजा बाला,
लगती बडी प्यारी है,
तिहु लोग में छाई है,
तेरी किरत भारी है,
तुझ सा सच्चा सेवक,
क्या होगा और कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

तेरी चोखट पर बैठे,
हम आस लगाये है,
पूरण हो काम सभी,
विश्वास ये लाये है,
भक्तो के काज करे,
ऐसी सरकार कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

श्री राम के चरणों का,
सेवक तू निराला है,
बिगड़ी को बनाता है,
दुःख हरने वाला है,
इस युग में होगा मन,
ऐसा अवतार कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

दरबार हजारो है,
तुझ सा दरबार कहाँ,
बजरंग सा देव भला,
हमें मिलता और कहाँ,
दरबार हजारो हैं,
तुझ सा दरबार कहाँ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.