Skip to content

दयालु हो दया करके संभालो भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2464

दयालु हो दया करके
संभालो
कहीं हम डूब ना जाए
बचा लो
दयालु हों दया करके
संभालो।।

यह गहरा है समंदर
कहीं तूफान का डर
ये बिसराई हैं लहरें
इधर भी तो नजर कर
दयालु हों दया करके
संभालो।।

यह कैसा है अंधेरा
समय जैसे है ठहरा
रहम कर दे ऐ मालिक
के कर दो अब सवेरा
दयालु हों दया करके
संभालो।।

ये तेरा नाम है पावन
तू ही करता है पालन
के बरसा दे जरा तू
तेरी किरपा का सावन
दयालु हों दया करके
संभालो।।

है दिल की आरजू ये
प्रभु इतनी सी सुनले
के माझी बन के निर्मल
की नैया पार कर दे

दयालु हों दया करके
संभालो।।

दयालु हो दया करके
संभालो
कहीं हम डूब ना जाए
बचा लो
दयालु हों दया करके
संभालो।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.