थक सी गई हूँ मैं जग को पुकार के भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

थक सी गई हूँ मैं
जग को पुकार के
शरण में आयी हूँ
सबकुछ हार के।।

फिल्मी तर्ज भजन : छुप गया कोई रे।

आँखों में नींद नहीं
दिल भी उदास है
बिखरे है सपना टुटा
टूटी हर आस है
घाव है गहरा बहुत
अपनों के प्यार की
शरण में आयी हूँ
सबकुछ हार के।।

जीवन की बाजी अब तो
आप के ही हाथ है
हारे के साथी बाबा
आप दीनानाथ है
बन जाओ माझी बाबा
मेरी मजधार के
शरण में आयी हूँ
सबकुछ हार के।।

ख़ताये जो की है मैंने
मुझे स्वीकार है
माफ़ करो भूल ये मेरी
तेरी दरकार है
गलती के पुतले मोहित
हम तो संसार के
शरण में आयी हूँ
सबकुछ हार के।।

थक सी गई हूँ मैं
जग को पुकार के
शरण में आयी हूँ
सबकुछ हार के।।

  1. मैं आया शरण तुम्हारी भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  2. खाटू वाला श्याम हमारा कलयुग का अवतार श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  3. तुझे कौन सा भजन सुनाऊं बाबा तुझको कैसे रिझाऊं श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  4. बंसी वाले तेरी बांसुरी कमाल कर गयी भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  5. भगत कित पड़ के सो गया रे भाई क्यों ना खाटू आया श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  6. कैसा प्यारा ये दरबार है श्याम भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  7. बुलाओ जो तुम प्रभु को प्रेम से बुलाना भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

Leave a Reply