Skip to content

तेरे दर्शन को गणराजा तेरे दरबार आए है भजन लिरिक्स

  • by
0 226

गणेश भजन तेरे दर्शन को गणराजा तेरे दरबार आए है भजन लिरिक्स
तर्ज – अगर श्यामा जु ना होती।

दोहा – नसीब वालों को हे गणराजा,
तेरा दीदार होता है,
जिसपे होता है नजरेकरम,
उसका बेडा पार होता है।

तेरे दर्शन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

सुना है मैंने गणराया,
तुम्हे लड्डू ही भाते है,
सुना है मैंने गणराया,
तुम्हे लड्डू ही भाते है,
तुम्हारे भोग में भगवन,
हाँ लड्डू साथ लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

तुम्हे दूर्वा सदा चढ़ती,
लोग ऐसा सदा करते,
तुम्हे दूर्वा सदा चढ़ती,
लोग ऐसा सदा करते,
बेल पाती के संग संग में,
हाँ दूर्वा हार लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

तुम्हे वस्त्रों में पीताम्बर,
पहनते हमने देखा है,
तुम्हे वस्त्रों में पीताम्बर,
पहनते हमने देखा है,
की दरजी से भी सिलवाकर,
तुम्हारे वस्त्र लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

सुना है ताजे फूलों के,
तुम्हे गजरे सुहाते है,
सुना है ताजे फूलों के,
तुम्हे गजरे सुहाते है,
बागों से ‘सुमन योगी’,
सुगन्धित फुल लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

तेरे दर्शन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.